भूगर्भ जल रिचार्ज के लिए सीएम योगी करा रही चेकडैम-तालाबों का निर्माण

भूगर्भ जल रिचार्ज के लिए सीएम योगी करा रही चेकडैम-तालाबों का निर्माण

पीलीभीत: जल और जीवन एक-दूसरे के पूरक हैं। जहां जल है वहां जीवन है। यदि जल नहीं तो जीवन नहीं। जल से ही जीव-जन्तु, पेड़-पौधों आदि की उत्पत्ति एवं विकास होता है। आज बढ़ती हुई जनसंख्या एवं औद्योगीकरण के कारण भूजल का दोहन अधिक हो रहा है। भूगर्भ जल के स्तर में धीरे-धीरे कमी आ रही है।

जागरूकता के लिए 5 योजनाएं
प्रदेश में गिरते भूगर्भ जल स्तर में सुधार तथा भूगर्भ जल के नियोजित विकास एवं प्रबंधन के साथ भूजल से सम्बंधित समस्याओं के अध्ययन एवं भूजल संरक्षण हेतु जन जागरूकता के लिए 05 योजनाएं यथा-भूगर्भ जल सर्वेक्षण का विकास, आंकलन एवं सुदृढ़ीकरण, शासकीय भवनों पर रूफटाप रेनवाटर हार्वेस्टिंग प्रणाली की स्थापना, भूजल संसाधनों की गुणवत्ता का अनुश्रवण एवं मैपिंग, भूजल जन-जागरूकता एवं प्रचार-प्रसार तथा राज्य भूजल भवन की स्थापना तथा नये पीजोमीटर की स्थापना की नवीन योजनायें प्रस्तावित हैं। प्रदेश में भूजल संसाधनों की सुरक्षा, संरक्षण, प्रबन्धन एवं विनियमन के दृष्टिगत उ0प्र0 भूगर्भ जल (प्रबन्धन एवं विनियमन) अधिनियम-2019 लागू किया गया है।

जलस्तर बढ़ाने की योजनाएं संचालित
प्रदेश सरकार भूजल के गिरते स्तर को सामान्य लाने के लिए सम्बंधित क्षेत्रों में वर्षा जल को रोकने के लिए बन्धियां/चेकडैम, बांध, तालाब, पोखरों आदि का निर्माण कराकर जलस्तर बढ़ाने की योजनाएं संचालित की हैं। घरों तथा शासकीय भवनों में रूफटाप रेन वाटर हार्वेस्टिंग प्रणाली की योजना संचालित है। जिसके अन्तर्गत शासकीय भवनों एवं निजी घरों के छतों से आने वाले वर्षा के पानी को खोदे गये गड्ढों/हार्वेस्टिंग प्रणाली में एकत्रित कर भूगर्भ जल रिचार्ज में अभिवृद्धि की जा रही है।

प्रदेश के डार्क घोषित विकास खण्डों में सरकार द्वारा बंधियां, चेकडैम, तालाबों का निर्माण कराया जा रहा है। भूगर्भ जल रिचार्ज में अभिवृद्धि हेतु स्थानीय नदी, नालों, एवं वर्षा के जलबहाव वाले स्थलों पर चेकडैम बनाकर वर्षा जल को रोकते हुए भूगर्भ जल स्तर को बढ़ाने पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। प्रदेश में अब तक विभिन्न नदियों , नालों आदि पर 351 से अधिक चेकडैम बनाये गये हैं। जिनपर प्रदेश सरकार द्वारा 131.40 करोड़ रूपये व्यय किया गया है।

तालाबों पर विशेष ध्यान
प्रदेश सरकार द्वारा वर्षा जल संचयन एवं भूजल संवर्द्धन के अन्तर्गत क्रिटिकल तथा अतिदोहित चयनित विकास खण्डों में भूजल संवर्द्धन, सिंचाई, मछली पालन, पशुओं के लिए पीने का पानी की उपलब्धता सुनिश्चित करने आदि कार्यों हेतु तालाबों का निर्माण/जीर्णोद्धार कराया जा रहा है। तालाबों के पुनर्विकास एवं प्रबंधन हेतु 01 हे0 से 05 हेक्टेयर क्षेत्रफल तक के तालाबों पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है।   प्रदेश सरकार ने वर्ष 2019-20 में 47.60 करोड़ रू0 व्यय करते हुए 118 तालाबों का निर्माण कराया है तथा वित्तीय वर्ष 2020-21 में 48 करोड़ रू0 व्यय करते हुए अब तक 117 तालाबों का निर्माण/जीर्णोद्धार कराया गया है। प्रदेश सरकार भूगर्भ जल के स्तर में वृद्धि करते हुए कृषि उत्पादन में वृद्धि हेतु कृत संकल्पित है। इस दिशा में प्रदेश सरकार द्वारा कराये जा रहे कार्य सराहनीय हैं।


हाथरस हत्याकांड पर यूपी विधानसभा में सीएम योगी आदित्यनाथ बोले- फिर सवालों के घेरे में सपा की टोपी

हाथरस हत्याकांड पर यूपी विधानसभा में सीएम योगी आदित्यनाथ बोले- फिर सवालों के घेरे में सपा की टोपी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश बजट 2021-22 पर बुधवार को विधानसभा में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सदन में पेश बजट के माध्यम से प्रदेश के विकास को आगे बढ़ाने का कार्य किया गया है। काफी रुचि के साथ सभी पक्षों के सदस्यों ने सदन में अपना पक्ष रखा। लोकतांत्रिक प्रणाली का सृजन प्रदेश का विधानमंडल कर रहा है, यह हम सभी के लिए गौरव का विषय है। इसके लिए सभी सदस्यों का अभिनंदन करता हूं। उन्होंने कहा कि प्रदेश ही नहीं देश स्तर पर भी यूपी के बजट की सराहना की है।

सीएम योगी ने एक बार फिर सदन में समाजवादी पार्टी की टोपी का मुद्दा उछाला। उन्होंने कहा कि हाथरस केस में यह टोपी फिर से सवालों के घेरे में हैं। हाथरस हत्याकांड में एक बार फिर यह टोपी शर्मसार हुई है। इंटरनेट मीडिया पर लोग पूछ रहे हैं कि आखिर यह टोपी वाला कौन है? इस पर नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी एक पोस्टर दिखाते हुए कहा कि इसमें भाजपा सांसद के साथ व्यक्ति खड़ा है। इस पर सीएम योगी ने कहा कि वहां एक समाजवादी पार्टी की रैली होने वाली है। उस रैली में उस व्यक्ति के पोस्टर होर्डिंग लगे हैं। होर्डिंग, पोस्टर में समाजवादी पार्टी के नेताओं के भी चित्र हैं।

यूपी विधानसभा में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रामधारी सिंह दिनकर की कविता की पंक्तियां 'सच है विपत्ति जब आती है तो कायर को ही दहलाती है, सूरमा नहीं विचलित होते क्षण एक नहीं धीरज खोते। विघ्नों गले लगाते हैं, कांटों में राह बनाते हैं, मुंह से कभी नहीं उफ कहते।' सुनाते हुए कहा कि देश के लिए और प्रदेश के लिए अक्षरशः सही बैठती हैं। बजट के परिप्रेक्ष्य में यदि देखना हो तो बिना विचलित हुए हम लोगों ने इसका अनुसरण किया है। उन्होंने कहा जो पिछले सरकारें थीं वह केवल चार्वाक के सिद्धांत 'यावज्जीवेत्सुखं जीवेत् ऋणं कृत्वा घृतं पिबेत्' यानि 'मनुष्य जब तक जीवित रहे तब तक सुख पूर्वक जिये। ऋण करके भी घी पिये।' पर कार्य करती थी।  

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि तात्कालिक आवश्यकता के लिए बनाई जाने वाली योजनाएं न पार्टी का और न प्रदेश की हित कर सकती हैं। हम एक विजन के साथ विकास के रोड मैप को तैयार किया है और उसके अनुसार विकास के एजेंडे को लागू किया है। यही पार्टी को और प्रदेश को एक नई ऊंचाई पर देगा। यही पार्टी को लंबे समय तक शासन करने और प्रदेश को विकास की नई अर्थव्यवस्था के साथ जोड़ने का कार्य करेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में जो कार्य वर्षों से नहीं हो सके थे वे सभी विगत चार वर्षों में रास्त पर आते दिखाई दिए। 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मात्र चार वर्षों में उत्तर प्रदेश देश की दूसरी सबसे बड़ी अर्थ व्यवस्था बन गया है। आज हम 10 लाख 90 हजार करोड़ रुपये से बढ़कर 21 लाख 73 हजार करोड़ रुपये की इकोनॉमी बन गए हैं। इन चार वर्षों में दो गुने से ज्यादा की बढ़ोंतरी हुई है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2022 के बाद जब बीजेपी की सरकार दोबारा सत्ता में आएगी तो उत्तर प्रदेश देश की पहली इकोनॉमी बनेगी। हम उसी लक्ष्य को लेकर कार्य कर रहे हैं। 2015- 16 में उत्तर प्रदेश की इज ऑफ डूइंग बिजनेश में 14वें स्थान पर था। आज उत्तर प्रदेश इज ऑफ डूइंग में दूसरे स्थान पर है। सारी व्यवस्थाएं वही हैं। हमने कार्यपद्धती बदली है।

सीएम योगी ने विपक्ष पर हमला बोलते हुए कहा कि लोग उत्तर प्रदेश से पलायन कर रहे थे। लोग यहां से भाग रहे थे। लोगों का विश्वास टूट चुका था। उत्तर प्रदेश में प्रति व्यक्ति आय 45 हजार थी। आज प्रति व्यक्ति आय लगभग 95000 है। यह परिवर्तन है। प्रदेश में ईज आफ लिविंग को भी बेहतर किया गया है। सभी क्षेत्रों में समग्र प्रयास किया गया। इसका यह परिणाम है। यह आंकड़े हमारी सरकार के नहीं हैं देश की नामी वित्तीय संस्थाओं और केंद्र सरकार के हैं।

विधानसभा में बजट पर चर्चा के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जब मैं मुख्यमंत्री कार्यालय बैठने के लिए एनेक्सी भवन पहुंचा तो वहां लोगों से पूछा कि मुख्यमंत्री कब आते थे। तो सब लोग चुप खड़े थे, लेकिन एक व्यक्ति ने कहा कि कभी-कभार। मैंने पूछा कि कभी कभार का मतलब? साल में एकाध बार आ जाया करते थे। अगर मुख्यमंत्री अपने कार्यालय में नहीं बैठेंगे तो फिर राज्य का बेड़ा गर्क होना तय है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि चार वर्ष में 40 लाख लोगों को आवास मिले। हर गांव की कनेक्टिविटी हो जाए। इंटर स्टेट कनेक्टिविटी ठीक हो गई। नेता प्रतिपक्ष कहते हैं कि हम भी करना चाहते थे लेकिन कर नहीं पाए इसलिए जनता ने कहा कि आप जहां के लायक हैं वहीं बैठें। बजट पर बोलते हुए कहा कि जब वित्त मंत्री बजट पेश कर रहे थे उस वक्त देश भर में यूपी के बारे में बहुत से चर्चा हो रही थी। महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा होनी चाहिए। बजट में हर तबके ने की है। प्रदेश ने ही नहीं बल्कि देश में सरहाना हुई है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोरोना के समय मे बजट लेकर आए हैं। लोग कोविड से भयभीत हैं। एक मार्च से 60 की उम्र से ऊपर सभी नागरिक को और बीमार लोगों को वैक्सीन देने का कार्य शुरू हो गया है। तेजी से प्रक्रिया आगे बढ़ रही है। यदि पूरा देश अपने नेतृत्व पर भरोसा करके आगे बढ़ रहा है तो उस देश को दुनिया की महाशक्ति बनने से कोई रोक नहीं सकता। हम सब जानते हैं कि उत्तर प्रदेश में जो कार्य आजादी से लेकर अब तक नहीं हो पाया, वह विगत चार वर्षों में हुए हैं। 2018-19 के बजट को प्रदेश के औद्योगिक विकास को समर्पित किया था। परंपरागत उद्योग बढ़ा है। लाभ अब दिखाई देने लगा है।


‘Aruvi’ के हिन्दी रीमेक में नजर आएंगी फातिमा सना शेख, कहा...       Virat Kohli अनुष्का शर्मा की हाइट को लेकर थे परेशान, जानें       Shweta Tiwari पलक तिवारी और रेयांश के साथ आई नजर       सिद्धार्थ मल्होत्रा के साथ नजर आएंगी रश्मिका मंदाना, Mission Majnu की शूटिंग लखनऊ में हुई शुरू       इस एक्टर के निधन की ख़बर सुनकर इसलिए सुन्न पड़ गये थे अभिषेक कपूर       Saif Ali Khan ने कोविड-19 वैक्सीन की ली डोज       इस एक्ट्रेस के बॉयफ्रेंड ने खेल मंत्री किरण रिजिजू से आयकर छापे मामले में मांगी मदद       क्या ‘इंडियन आइडल 12’ बंद होने जा रहा है? शो को लेकर सोशल मीडिया पर चर्चा       जेपी दत्ता और बिंदिया गोस्वामी की बेटी निधि जयपुर में कर रहीं शादी       ‘Liger’ का गोवा शेड्यूल हुआ पूरा, इस एक्ट्रेस ने शेयर किए पार्टी के फोटो       आज है श्री राम की भक्त माता शबरी की जयंती, जानें       आज है फाल्गुन मास की कालाष्टमी, इस मुहूर्त में करें पूजा       भगवान शिव ने स्वयं बताई है महाशिवरात्रि व्रत की महिमा, जानें       कैसे हुई थी माता शबरी की प्रभु श्री राम से मुलाकात       मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए शुक्रवार को जरुर करें ये उपाय       इस महाशिवरात्रि करें ये दो कार्य, आप पर होगी भगवान शिव की कृपा       कालाष्टमी आज, जानें मुहूर्त, राहुकाल एवं दिशाशूल       भगवान शिव ने क्यों लिया अर्धनारीश्वर अवतार, हमारे और आप से जुड़ा है कारण       क्या है कुंभ मेले में शाही स्नान का महत्व, विशेष फल की होती है प्राप्ति       कर्क राशि वालों को आर्थिक मामलों में सफलता मिलेगी, धन, यश और कीर्ति में वृद्धि होगी