हर साल लगता है एक महीने का मेला, गोरखनाथ मंदिर में खिचड़ी चढ़ाने का इतिहास

हर साल लगता है एक महीने का मेला, गोरखनाथ मंदिर में खिचड़ी चढ़ाने का इतिहास

गोरखपुर : राज्य भर में मकर संक्रांति पूरे उत्साह के साथ मनाई जा रही है। हर साल की तरह इस साल भी मकर संक्रांति के पर्व पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ गोरखनाथ मंदिर में पहली खिचड़ी भेंट करके पुरानी परंपराओं का पालन करेंगे। पुजारी से राजनेता बने गोरखनाथ मंदिर के पीठाधीश्वर सीएम योगी भी मंदिर परिसर से देश के नागरिकों के लिए प्रार्थना करते हैं और अपनी इच्छाओं का विस्तार करते हैं, जिसे गोरक्षपीठ भी कहा जाता है।

गोरक्षनाथ को खिचड़ी चढ़ाने की परंपरा
मुख्यमंत्री के बाद, नेपाल नरेश द्वारा भेजी गई खिचड़ी को गुरु गोरक्षनाथ को अर्पित किया जाता है। मकर संक्रांति गोरखनाथ मंदिर का मुख्य त्यौहार है। आपको बता दें कि यह मकर संक्रांति का पर्व यूपी, बिहार, नेपाल के लाखों लोग और देश भर के लोग इस धार्मिक स्थान की परिक्रमा करते हैं और गुरु गोरक्षनाथ को खिचड़ी चढ़ाते हैं।

एक महीने तक खिचड़ी का मेला भी लगता है
बाबा गोरक्षनाथ को खिचड़ी चढ़ाने की यह परंपरा सदियों पुरानी है और गुरु गोरखनाथ को समर्पित गोरखनाथ मंदिर में बड़े हर्ष और उल्लास के साथ मकर संक्रांति का यह पर्व मनाया जाता है। मंदिर परिसर में मकर संक्रांति के दिन से एक महीने का खिचड़ी का मेला भी लगता है। इस मेले के दौरान हर रविवार और मंगलवार के दिन का विशेष महत्व है।

गुरु गोरक्षनाथ को खिचड़ी चढ़ाने का इतिहास
ऐसा माना जाता है कि त्रेता युग के दौरान, सिद्ध गुरु गोरक्षनाथ हिमाचल के कांगड़ा जिले में स्थित ज्वाला देवी मंदिर गए। जहां देवी ने गुरु गोरक्षनाथ को भोजन करने के लिए आमंत्रित किया। तामसी भोजन को देखकर, गोरक्षनाथ ने कहा, “मैं भिक्षा में दिए गए चावल और दाल को ही स्वीकार करता हूं।” जिसके लिए ज्वाला देवी ने जवाब दिया, “जाओ और तब तक अक्षयपात्र में चावल और दाल लाओ। मैं चावल और दाल पकाने के लिए पानी उबाल रही हूं।”

इसके बाद गुरु गोरक्षनाथ हिमालय की तलहटी में स्थित गोरखपुर पहुंचे और राप्ती और रोहिणी नदियों के संगम पर अपना भिक्षापात्र रखा और अपनी साधना शुरू की। लोगों ने चावल और दालें डालना शुरू कर दिया, लेकिन इससे अक्षयपात्र नहीं भर पाया।

सालों से खिचड़ी चढ़ाने की परंपरा जारी
लोग इसे गुरु गोरक्षनाथ का चमत्कार मानकर अभिभूत थे। तब से, गोरखपुर में गुरु गोरखनाथ को खिचड़ी चढ़ाने की परंपरा जारी है। हर साल इस दिन, दुनिया भर से श्रद्धालु गुरु गोरक्षनाथ मंदिर में खिचड़ी चढ़ाने आते हैं। सबसे पहले, भक्त मंदिर के पवित्र भीम सरोवर में स्नान करते हैं और वे मंदिर में अनुष्ठान करते हैं।


मकर संक्रांति या संक्रांति, हिंदू कैलेंडर के अनुसार, सूर्य (सूर्यदेव) को समर्पित है। इस दिन, सूर्य सर्दियों के संक्रांति के दौरान धनु से मकर तक की यात्रा शुरू करता है, और गर्म दिनों की शुरुआत का संकेत देता है। इसे कई जगहों पर पूर्व में बिहू, पश्चिम में लोहड़ी, उत्तर में खिचड़ी और तिलवा संक्रांति और दक्षिण में पोंगल जैसे त्योहारों के साथ मनाया जाता है। यह उल्लेख किया जाना चाहिए कि मकर संक्रांति को सभी शुभ घटनाओं की शुरुआत के लिए हिंदू परंपरा में वर्ष का सबसे अच्छा समय माना जाता है। यह भी कहा जाता है कि भीष्म पितामह ने अपने इच्छामृत्यु के लिए इस समय की प्रतीक्षा की थी।


यूपी के CM आदित्यनाथ के परफॉर्मेंस पर राजनाथ बोलें...

यूपी के CM आदित्यनाथ के परफॉर्मेंस पर राजनाथ बोलें...

नई दिल्ली : देश के रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि अगर कोई हमारे ऊपर आक्रमण करेगा, तो आरपार की लड़ाई होगी। ये बातें रक्षामंत्री ने पाकिस्तान के सन्दर्भ में कही हैं।

राजनाथ सिंह ने एक इंटरव्यू के दौरान पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव से लेकर पाकिस्तान के मसले पर खुलकर अपने विचार रखें।

उन्होंने बंगाल के बारें में कहा कि अगर किसी राज्य में कानून व्यवस्था का मसला खड़ा होता है, तो राज्य सरकार की ही जिम्मेदारी बनती है’।

योगी ने A-वन काम किया है: राजनाथ सिंह
पाकिस्तान के मसले पर राजनाथ सिंह बोले कि अगर कोई हमारे ऊपर आक्रमण करेगा, तो आरपार की लड़ाई होगी।

उत्तर प्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव हैं और राजनाथ सिंह भी यूपी से ही आते हैं, ऐसे में जब राजनाथ सिंह से योगी आदित्यनाथ के परफॉर्मेंस पर सवाल हुआ तो उन्होंने इतना ही कहा कि योगी ने A-वन काम किया है।

उनसे जब उत्तर प्रदेश में बने लव जिहाद के खिलाफ कानून के मसले पर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि सामूहिक रूप से जो धर्म परिवर्तन कराया जाता है वो पूरी तरह गलत है।

रक्षा मंत्री व लखनऊ के सांसद राजनाथ सिंह और सेनाध्यक्ष एमएम नरवणे आज एक दिवसीय दौरे पर लखनऊ आएंगे। इस दौरान वह कई कार्यक्रमों में शामिल होंगे।

राजनाथ सिंह लखनऊ में कई योजनाओं की आधार शिला रखेगें। वह सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल के निर्माण का भूमिपूजन करेंगे। यह अस्पताल, लगभग 500 करोड़ रुपए की लागत से तैयार होने जा रहा है। इसके पूरे होने में चार साल लगेंगे। छावनी में 17 मंजिला नए मध्य कमान अस्पताल का निर्माण किया जा रहा है। जो कि, चार साल में पूरा कर लिया जाएगा।

सेनाध्यक्ष जनरल एमएम नरवाने एक दिवसीय दौरे पर शनिवार को वह छावनी में नए सुपर स्पेशलिटी मध्य कमान अस्पताल के निर्माण के लिए भूमिपूजन समारोह में शामिल होंगे।

नया मध्य कमान अस्पताल को बेस अस्पताल की खाली जमीन पर बनाया जाएगा। इस 17 मंजिला अस्पताल में ओपीडी, लैब, रेडियोलॉजी विभाग से लेकर वार्ड भी होंगे।


अभी अभी : सरकार का बड़ा ऐलान! कर्मचारियों को तोहफा, अब होगी पैसों की बारिश       क्या बिना रजिस्ट्रेशन वैक्सीन लगवाई जा सकती है? जानें       फिर बेनतीजा रही किसान नेताओं और सरकार के बीच वार्ता       सेना ने किया कमाल, पहली बार साथ उड़े 75 ड्रोन्स       Schools in Himachal Pradesh: 15 फरवरी से तैयार रहें, हुआ ये बड़ा ऐलान       मंत्रालय ने दी ये जानकारी, वैक्सीन लगवाने से पहले जान लें साइड इफेक्ट्स       झारखंड: सोशल मीडिया पर कैंपेन चलाने वालों पर होगा एक्शन       सेना के भयानक हथियार, हिले चीन-पाकिस्तान       अब घर तक शराब पहुंचाएगी सरकार       हरसिमरत का राहुल पर निशाना, बोलीं...       भारत में बनी इस वैक्सीन को लेकर अमेरिकी मीडिया ने खड़े किये सवाल       इन 2 राशियों को मिलेगा लाभ, जानें किसका होगा बुरा हाल       शतभिषा नक्षत्र में ये 2 राशियां रहें सावधान!       UPPCL Junior engineer recruitment 2021: यूपीपीसीएल ने जूनियर इंजीनियर के पदों पर निकली भर्तियां, इस तारीख तक करें आवेदन       IFFI 2020: 51वें भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव का हुआ आगाज, इस बार ये है खास       रिषभ पंत को इसके कारण शेन वॉर्न और मार्क वॉ ने दी नसीहत, कहा- दायरे में रहकर करें अपना काम       पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा- कोरोना वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित, मैं खुद चाहता था लगवाना       OHB समूह के लिए लाॅन्च होगा कम्युनिकेशन सैटेलाइट       Republic Day Parade 2021: दिल्ली-NCR में 15 फरवरी तक ड्रोन व ग्लाइडर उड़ाने पर रहेगा प्रतिबंध       ये दे रहे हैं तन, मन और धन से किसान आंदोलन को धार