हमीरपुर में युवक का शव रखकर हाईवे पर लगाया जाम

हमीरपुर में युवक का शव रखकर हाईवे पर लगाया जाम

हमीरपुर में आज पुलिस महकमे में उस समय हडकंप मच गया. जब कुछ लोगों ने नेशनल हाइवे पर मृत शरीर रख कर जाम लगा दिया. परिजनों का आरोप पुरुष बांदा जिले में रिश्तेदारी में आया हुआ था. जहां उसकी मर्डर कर मृत शरीर को फांसी पर लटका दिया गया और परिजनों को सूचना दिए बिना पुलिस ने मृत शरीर का पोस्टमार्टम भी करा दिया.

शव रख कर जाम लगाने का यह मामला सदर कोतवाली क्षेत्र में बेतवा पुल के पास नेशनल हाइवे 34 का है. यहां रमेड़ी मोहल्ले का रहने वाला 20 वर्षीय पुरुष सोनू निषाद जो बांदा जनपद में जसपुरा थाना क्षेत्र के नारायण गांव अपने भाई की होने वाली ससुराल गया था. उसका संदिग्ध हालत में फांसी पर लटका हुआ मृत शरीर मिला था. परिजनों का आरोप है की सोनू निषाद की मर्डर कर उसे फांसी पर लटकाया गया और पुलिस ने बिना सूचना दिए मृत शरीर का पोस्टमार्टम करा दिया.

उपस्थित परिजन." loading="lazy" class="e86bf44b">

सड़क पर उपस्थित परिजन.

भाई की ससुराल में आया था युवक

शव रख कर नेशनल हाइवे जाम करने की सूचना पर पुलिस शीघ्र में मौके पर पहुंच गई जिसने परिजनों को काफी जद्दोजहद के बाद समझा बुझाकर जाम खुलवा दिया है. मृतक के चचा रामसेवक ने बताया की सोनू दिन में अपने भाई की होने वाली ससुराल गया था, जहां से देर रात उसने अपने पिता राम खिलावन को टेलीफोन किया की मुझे आकर ले जाओ नहीं तो यह लोग मुझे मार डालेंगे. सुबह होने पर जब परिजन बेटे को लेने नारायण गांव पहुंचे तो उन्हें बताया गया की तुम्हारे लड़के ने फांसी लगा ली है. और बिना सूचना दिए पुलिस ने मृत शरीर का पोस्टमार्टम भी करा दिया.

परिजनों से बात करती पुलिस<span class='red'>.</span>

परिजनों से बात करती पुलिस.

पुलिस कुछ भी बोलने के लिए तैयार नहीं

मृतक के भाई ने अपने होने वाले ससुराली जनों पर छोटे भाई की मर्डर कर मृत शरीर को फांसी में लटका दिया है, और बिना सूचना दिए उसका पोस्टमार्टम भी करा दिया गया है. बांदा जनपद की जसपुरा थाना पुलिस अब कुछ भी सुनने को तैयार नहीं है, इसलिए उन्होंने जाम लगाया था. अभी इस मुद्दे में हमीरपुर पुलिस कुछ बोलने को तैयार नहीं है, पुलिस इसे दूसरे जनपद का मामला बता कर अपना पल्ला झाड़ रही ह


भिखारी के रूप में घूम रहे एक बुजुर्ग की पहचान हुई गुजरात के सेवानिवृत्त प्रबंधक के रूप में

भिखारी के रूप में घूम रहे एक बुजुर्ग की पहचान हुई गुजरात के सेवानिवृत्त प्रबंधक के रूप में

एटा में भिखारी के रूप में घूम रहे एक बुजुर्ग की पहचान गुजरात के सेवानिवृत्त प्रबंधक के रूप में हुई है. उनकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं बताई जा रही. पुलिस ने उन्हें कोतवाली नगर में रखा है. उनके गृह जनपद में परिजनों को टेलीफोन कर जानकारी दी गई है. कई दिन से एक आदमी रोडवेज बस स्टैंड के आसपास भीख मांगकर पेट भरता था. रविवार को उसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तो उसे गुजरात के लोगों ने पहचान लिया. इसके बाद क्षेत्रीय पुलिस को सूचना दी. 

बुजुर्ग ने परिजनों के बारे में दी जानकारी 

पुलिस बुजुर्ग को थाने ले आई. पूछताछ में बुजुर्ग ने अपने घर का पता और परिजन की जानकारी और टेलीफोन नंबर बताए. जिस पर पुलिस ने टेलीफोन कर जानकारी दी. कोतवाली नगर प्रभारी रामेंद्र शुक्ला ने बताया कि एक बुजुर्ग आदमी के बारे में जानकारी मिली. बस स्टैंड पहुंचकर उन्हें थाने लाए. वह मानसिक रूप से बीमार प्रतीत हो रहे हैं. वार्ता करने के दौरान पता लगा कि वह बैंक मैनेजर पद से सेवानिवृत्त हैं. 

दो अप्रैल से थे लापता  

सेवानिवृत्त प्रबंधक द्वारा बताए गए पते पर गुजरात के जनपद नवसारी थाना क्षेत्र के गांव चिखली में संपर्क किया गया. बताया गया कि वह लापता हो गए थे. 2 अप्रैल 2022 को उनकी गुमशुदगी वहां थाने में दर्ज कराई गई है. वह गुजरात से एटा कैस पहुंचे, यह अभी पता नहीं चल सका है. बुजुर्ग के भाई ने उनका नाम दिनेश कुमार और फिर दीनू भाई पटेल बताया है. परिजन गुजरात से एटा के लिए रवाना हो गए हैं.