12 एकड़ के मैदान में जनसभा को संबोधित करेंगे CM योगी

12 एकड़ के मैदान में जनसभा को संबोधित करेंगे CM योगी

आगामी 22 सितंबर को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के धौलाना विधानसभा क्षेत्र पहुंचने की संभावना है, जिसके चलते प्रशासनिक अमला तैयारियों में जुट गया है। इसको लेकर बुधवार को जिलाधिकारी अनुज सिंह ने धौलाना रोड पर 12 एकड़ के मैदान का चयन किया है, जहां मुख्यमंत्री का हेलीकाप्टर उतरने के साथ ही वह जनसभा को भी संबोधित करेंगे।

22 सितंबर की सुबह मुख्यमंत्री दादरी के मिहिर भोज पोस्ट ग्रेजुएट कालेज में गुर्जर सम्राट मिहिर भोज की प्रतिमा का अनावरण करेंगे। इसके बाद उनका धौलाना आने का संभावित कार्यक्रम है। मुख्यमंत्री के संभावित कार्यक्रम के चलते बुधवार को जिलाधिकारी अनुज सिंह, पुलिस अधीक्षक दीपक भूकर, मुख्य विकास अधिकारी उदय सिंह, अपर जिलाधिकारी जयनाथ सिंह, अपर पुलिस अधीक्षक सर्वेश मिश्र सहित विभिन्न विभागों से जुड़े अधिकारियों का काफिला सुबह लगभग साढ़े दस बजे हाईवे स्थित रामलीला मैदान पहुंचा। मैदान का निरीक्षण करने के उपरांत शुरुआती तौर पर जनसभा के लिए रामलीला मैदान को ही निर्धारित किया गया। हेलीपैड के लिए राजपूताना रेजीमेंट इंटर कालेज में स्थित मैदान का निरीक्षण किया गया।

कालेज के इस मैदान में केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी की जनसभा हुई थी और दिल्ली- मेरठ एक्सप्रेस-वे परियोजना के अंतर्गत तृतीय भाग डासना से हापुड़ बाईपास तक हुए चौड़ीकरण का लोकार्पण किया गया था, लेकिन अब मैदान में अधिक घास, जलभराव और सबसे बड़ी बात यह है कि हेलीकाप्टर से उतरने के बाद मुख्यमंत्री की गाड़ियों का काफिला जिस रास्ते से होकर रामलीला मैदान यानी जनसभा स्थल तक पहुंचेगा, वह रजनी विहार कालोनी से होकर गुजरता है। यह सब कुछ देखते हुए जिलाधिकारी ने स्थानीय अधिकारियों से अन्य जगह दिखाने की बात कही, जिस पर स्थानीय अधिकारियों के साथ जिलाधिकारी धौलाना रोड स्थित एक मैदान पहुंचे। महाराजा अग्रसेन इंस्टीट्यूट के निकट स्थित यह मैदान लगभग 12 एकड़ में है। जनसभा और हेलीपैड के लिए यह मैदान जायज लगने पर जिलाधिकारी ने ऊर्जा निगम, नगर पालिका परिषद एवं अन्य संबंधित विभागों के अधिकारियों को साफ-सफाई एवं तैयारियां पूर्ण करने के निर्देश दिए। हालांकि, इसके बाद राणा डिग्री कालेज के सामने स्थित मैदान का भी जायजा लिया गया, लेकिन वह जगह कार्यक्रम को लेकर उचित नहीं समझी गई।

जिलाधिकारी अनुज सिंह ने बताया कि फिलहाल अभी तक मुख्यमंत्री का सरकारी तौर पर कार्यक्रम नहीं प्राप्त हुआ है, लेकिन व्यवस्थाओं को पूर्ण किया जा रहा है। जनसभा और हेलीपैड के लिए धौलाना रोड स्थित मैदान को चिह्नित किया गया है। इस दौरान भाजपा जिलाध्यक्ष उमेश राणा, ब्लाक प्रमुख धौलाना निशांत सिसोदिया, एनजीओ प्रकोष्ठ के क्षेत्रीय सहसंयोजक प्रवीण मित्तल आदि मौजूद रहे।

उधर, कलक्ट्रेट सभागार में जिलाधिकारी अनुज सिंह, पुलिस अधीक्षक दीपक भूकर, मुख्य विकास अधिकारी उदय सिंह व जिलाधिकारी जयनाथ यादव ने मुख्यमंत्री के जनपद में आगमन को लेकर जनपदीय अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में लोक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता को निर्देशित करते हुए कहा कि एक लेआउट तैयार करा लें। साथ ही बैरिके¨डग, पार्किंग, साउंड सिस्टम इत्यादि की व्यवस्था समय से पूरी कर लें।

डीएम ने अधिशासी अधिकारी पिलखुवा व जिला पंचायत राज अधिकारी को निर्देश दिए कि नगर व ग्रामीण क्षेत्रों की साफ-सफाई बेहतर दिखनी चाहिए। आस-पास के गांव साफ-सुथरे रहें। जनपद के किसी भी स्थान पर जलभराव नहीं होना चाहिए। मुख्य चिकित्सा अधिकारी को निर्देश दिया कि एंबुलेंस एवं स्वास्थ्य संबंधी सभी आवश्यक सुविधाओं की तैयारी समय से पूर्व पूरी कर ली जाए।

उन्होंने सभी कार्यदायी संस्थाओं के अधिकारियों से कहा कि शिलान्यास व लोकार्पण के लिए पत्थर इत्यादि तैयार करा लें, जिन विभागों के शिलान्यास व लोकार्पण होने हैं वह अपनी देखरेख में पत्थर तैयार कराएं। सांसद निधि व विधायक निधि के कार्य पर सांसद व विधायक का नाम अंकित कराया जाए। संबंधी अधिकारी लाभार्थियों की विधानसभा वार सूची तैयार कर कार्यक्रम स्थल पर बैठने की व्यवस्था सुनिश्चित करें।

सहायक संभागीय परिवहन अधिकारी दूर से आने वाले लाभार्थियों के लिए बस की व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे। शहरी क्षेत्र में एसएसजी की महिलाएं उपस्थित रहें और लाभार्थियों को भी इकट्ठा करके लाएं।

डीएम ने समस्त उप जिलाधिकारियों व खंड विकास अधिकारियों को निर्देश दिए कि आपस में समन्वय बनाकर ग्रामवार सूची तैयार करें। सभी विभाग के अधिकारी अपनी-अपनी परियोजनाओं के बारे में सूची बनाकर अर्थ एवं सांख्यिकी अधिकारी को उपलब्ध करा दें।


गढ़मुक्तेश्वर मेला को योगी सरकार की अनुमति, कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने के निर्देश

गढ़मुक्तेश्वर मेला को योगी सरकार की अनुमति, कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने के निर्देश

उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस पर लगभग अंकुश लगा चुके सीएम योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को कोरोना कर्फ्यू पूरी तरह से हटाने के बाद अब एक कदम और आगे बढ़ा दिया है। खुले मैदान में अब किसी तरह के आयोजन की कोई पाबंदी नहीं है। कार्तिक मास में दीपावली के बाद गढ़मुक्तेश्वर में करीब 15 दिन तक मेला लगता है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश में लगने वाले एक बड़े मेले के आयोजन को अनुमति प्रदान कर दी है। उन्होंने हापुड़ में लगने वाले गढ़मुक्तेश्वर मेले के आयोजन को अनुमति दी है। इसके साथ ही निर्देश भी दिया है कि वहां पर सभी स्थान पर कोविड प्रोटोकॉल के साथ भव्य रूप से मेले का आयोजन हो।


अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि कार्तिक मास में बीते दो वर्ष से प्रदेश के हापुड़ जनपद के गढ़मुक्तेश्वर के खादर में लगने वाला कार्तिक मेला स्थगित था। इस बार मुख्यमंत्री योगी ने ऐतिहासिक मेले के आयोजन के लिए निर्णय लिया है। मेले के आयोजन को लेकर अब शासनादेश जारी हो गया है। ऐसे में इस बाद दिवगंत परिजनों के दीपदान के लिए लोग खादर में पहुंच सकते हैं।

अपर मुख्य सचिव ने बताया कि कोरोना संक्रमण से बचाव और उपचार की व्यवस्थाओं को निरन्तर सुदृढ़ बनाए रखे जाने व कोविड नियमों के तहत सभी पर्व एवं त्योहारों को शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न कराने के निर्देश दिए हैं।


हापुड़ जिले के गढ़मुक्तेश्वर में कार्तिक पूर्णिमा पर लगने वाले मेले में कई राज्यों से लाखों श्रद्धालु पहुंचते हैं। यहां लोग अपने पुरखों की आत्मा की शांति के लिए दीपदान करते हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टीम-09 के साथ बुधवार को समीक्षा बैठक के बाद प्रदेश के सभी जिलों में कन्टेंमेंट जोन के बाहर रात का कर्फ्यू समाप्त करने का आदेश दिया था। कोविड प्रोटोकाल के अनुपालन की शर्त के अनुसार रात्रिकालीन कोरोना कर्फ्यू रात 11 बजे से सुबह 6 बजे तक लागू करने के आदेश थे।