काशी धर्म परिषद की बैठक - बैठक में पारित हुए 8 प्रस्ताव

काशी धर्म परिषद की बैठक - बैठक में पारित हुए 8 प्रस्ताव

 वाराणसी के लमही स्थित सुभाष भवन में रविवार को काशी धर्म परिषद की बैठक हुई पातालपुरी मठ के पीठाधीश्वर महंत बालक दास की अध्यक्षता में आठ प्रस्ताव पारित हुए काशी धर्म परिषद के महासचिव पंडित ऋषि द्विवेदी ने बोला कि बार-बार इस्लाम के नाम पर यह बोला गया कि गुस्ताखे रसूल की यही सजा सर तन से जुदा, सर धड़ से जुदा… काशी धर्म परिषद ने सर्वसम्मति से माना कि उदयपुर में कन्हैया लाल और अमरावती में उमेश प्रह्लाद राव का गला काटने की घटना इसी नारे से प्रेरित है

यह नारा लगाने वाले ही हिंदुओं के गला काटने जैसी बेरहमी से मर्डर के लिए पूर्णतः उत्तरदायी हैं इसलिए गवर्नमेंट और न्यायालय संज्ञान लेकर इन नारों से मर्डर के लिए उकसाने वालों के विरूद्ध कड़ी से कड़ी कार्रवाई करे

बैठक में पारित हुए 8 प्रस्ताव
1- इस्लामी जिहादियों द्वारा कन्हैया लाल और अमरावती में उमेश प्रह्लाद राव का गला काटने की घटना गुस्ताखे रसूल की यही सजा, सर तन से जुदा, सर धड़ से अलग के नारे से प्रेरित है. यह नारा लगाने वाले ही हिंदुओं के गला काटने जैसी घृणित मर्डर के लिए पूर्णतः उत्तरदायी हैं

2-हिंदू देवी-देवताओं के विरूद्ध टिप्पणी करने वालों के विरूद्ध एक साथ एफआईआर दर्ज कराई जाएगी

3-सावन के पवित्र माह को देखते हुए प्रशासन ज्ञानवापी मंदिर में पवित्रता के सिद्धांत को लागू करे. ऐसे आदमी प्रवेश न करें जो मांसाहार का सेवन करते हों

4-आदि विश्वेश्वर पर जल चढ़ाने की न्यायालय अनुमति दे

5-इस्लामी जिहादियों और आतंकियों के खिलाफ अभियान चलाने वाले काशी धर्म परिषद के अध्यक्ष महंत बालक दास को हाई लेवल सुरक्षा दी जाए

6- खुलेआम मर्डर करने का नारा लगाने वालों को कारागार में डाला जाए

7-शिवलिंग को फव्वारा कहने वाले मौलानाओं के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई हो

8- देशभर में षड्यंत्र के अनुसार फैलाई जा रही इस्लाम के नाम पर हिंसा को तुरन्त रोका जाए कट्टरपंथी मौलानाओं को भड़काने के आरोप में कारागार में डाला जाए