महंत नरेंद्र गिरि ने जताई थी इच्छा, 40 साल तक बने BJP की सरकार, केशव प्रसाद मौर्य ने बताया सच

महंत नरेंद्र गिरि ने जताई थी इच्छा, 40 साल तक बने BJP की सरकार, केशव प्रसाद मौर्य ने बताया सच

निराला प्रेक्षागृह में कार्यकर्ताओं व जनता को संबोधित करते हुए डिप्टी सीएम ने 2022 के चुनावी कयासों को अपनी सफलता की ओर मोड़ते हुए कहा कि आजकल मैं यह नारा जहां जाता हूं वहां जरूर लगाता हूं कि 100 में 60 हमारा है, बाकी में बंटवारा है, बंटवारे में भी हमारा है। डिप्टी सीएम ने मंच से 371 करोड़ रुपये की सड़क परियोजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास किया। वहीं, जिले के सभी विधानसभा क्षेत्रों के लिए अलग-अलग नई घोषणाएं करते हुए 467 करोड़ रुपये सहित कुल 838 करोड़ की परियोजनाएं सौगात में दीं। 

डिप्टी सीएम मौर्य ने विपक्षियों पर निशाना साधते हुए कहा कि बुआ, भतीजे और भतीजे के पिता ने 15 साल तक प्रदेश को लूटा। दिवंगत नरेंद्र गिरि से मुलाकात का जिक्र करते हुए कहा कि उन्होंने बताया था कि सपा के अखिलेश भी उनसे मिलते हैं। लेकिन, उनकी विचारधारा मेल नहीं खाती है। उनका जुड़ाव भाजपा से है। इसलिए वो चाहते हैं कि अगले 40 साल तक केंद्र और प्रदेश में भाजपा की ही सरकार बने। कार्यक्रम में डिप्टी सीएम के स्वागत की शुरुआत डीएम रवींद्र कुमार ने की। इसके बाद एसपी अविनाश पांडेय व मुख्य विकास अधिकारी दिव्यांशु पटेल ने उपमुख्यमंत्री को पुष्पगुच्छ देकर स्वागत किया। जिला प्रभारी कमलेश मिश्रा व जिलाध्यक्ष अवधेश कटियार सहित सभी विधायकों ने डिप्टी सीएम का स्वागत किया। भाजपा कार्यालय पहुंचे उप मुख्यमंत्री का जिलाध्यक्ष अवधेश कटियार सहित उपस्थित पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं ने स्वागत किया। 


उन्नाव सांसद ने भी की टिप्पणी: सांसद साक्षी महाराज ने कहा कि केशव और साक्षी का संबंध आज का नहीं ये मेरे केशव हैं, हम इनके साक्षी हैं। कार्यक्रम में जिला पंचायत अध्यक्ष शकुन ङ्क्षसह, पूर्व जिलाध्यक्ष आनंद अवस्थी, राधेश्याम रावत, गंगा प्रसाद वर्मा, प्रभानशंकर दीक्षित, राजकिशोर रावत, विधायक श्रीकांत कटियार, पंकज गुप्ता, बृजेश रावत, बंबालाल दिवाकर, अनिल सिंह, एमएलसी अरुण पाठक, क्षेत्रीय कार्य समिति सदस्य पुनीत गुप्ता, जिला उपाध्यक्ष सतीश कुशवाहा, अनुराग अवस्थी, कुश सिंह, विमला कुरील, आनंद अवस्थी, जिला महामंत्री बिपिन मिश्रा आदि उपस्थित रहे।


किसी भी समस्या पर मेरा आवास आप सबके लिए खुला: मौर्य ने कार्यकर्ताओं के साथ बैठक कर कार्यक्रम में कहाकि पार्टी कार्यकर्ताओं को सम्मान देना जानती है। कार्यकर्ताओं के दम पर 2022 में भी हम इतिहास रचेंगे। प्रचंड बहुमत से सरकार बनाकर सेवा करेंगे। अगर आप में से किसी को कोई समस्या हो तो लखनऊ स्थिति मेरा आवास आप सबके लिए खुला है।

कान खोलकर सुन लें डीएम-एसपी: डीएम व एसपी को चेताते हुए कहा कि कान खोलकर सुन लें, भाजपा कार्यकर्ताओं का सम्मान करें, इसमें लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। हालांकि संबोधन के शुरुआत में केशव ने डीएम रवींद्र कुमार को अपने गांव का बताया था। 


फिसली जबान: जिलाध्यक्ष ने 2017 में 325 सीटें जीतने के बाद मंच से 250 सीटें जीतने का दावा किया। सांसद साक्षी महाराज ने डिप्टी सीएम को मुख्यमंत्री कहा।

देश और दुनिया को संदेश देने वाली उन्नाव की धरती है:  मौर्य ने कहा कि यह देश और दुनिया को संदेश देने वाली धरती है। अपने संबोधन की शुरुआत में कहा कि मैं शब्दों में नहीं बता सकता। कहा कि जिस तरह मैं जब अयोध्या, काशी विश्वनाथ, मथुरा वृंदावन जाता हूं जितनी खुशी तब होती है उतनी ही उन्नाव आने पर होती है। कहाकि ऊपर उठता तो लिख देता अंबर में ध्वंस कहानी यह, नीचे गिरता तो भू उर्वर करता उन्नाव का पानी यह। डिप्टी सीएम ने कहा कि उन्नाव शिरोमणियों की धरती है। यहां महाकवि निराला, शिवमंगल सिंह सुमन, पंडित प्रताप नरायण मिश्र आदि कवियों के अलावा वीरों में राजा रावराम बख्श सिंह का नाम लिया। 


सबसे बड़े सामाजिक न्याय के विरोधी अखिलेश :  अखिलेश यादव के भारतीय जनता पार्टी को सामाजिक न्याय विरोधी सवाल पर पलटवार करते हुए कहा डिप्टी सीएम ने कहा कि सबसे बड़े सामाजिक न्याय के विरोधी अखिलेश यादव और समाजवादी पार्टी, बसपा व कांग्रेस है। भाजपा विरोधी राजनीतिक दल हैं। सामाजिक न्याय तो भारतीय जनता पार्टी कर रही हैं। सबको अवसर दे रही है सम्मान दे रही है और सर्व समाज खुश है। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह के बयान पर तीखा हमला बोलते हुए डिप्टी सीएम ने कहा कि पहले अपने बच्चों को आरएसएस के सरस्वती शिशु मंदिर में पढ़ायें और इसके बाद बताएं। उन्होंने शिशु मंदिर न देखा है और न पढ़ा है और न ही पढ़ाया है। वहीं गड्ढा मुक्त सड़कों के सवाल पर डिप्टी सीएम बोले कि मैं इस बात से इन्कार नहीं करता हूं। लगातार गड्ढा मुक्ति अभियान चल रहा है। जो हर साल चलाया जाता है। वर्षा काल में बहुत बार सड़कें खराब होती हैं फिर उनका सुधार होता है।


लोकार्पण, शिलान्यास व नई परियोजनाएं

 डिप्टी सीएम ने 371 करोड़ के 119 मार्गों का शिलान्यास और लोकार्पण किया। इसके अलावा 467 करोड़ की नई परियोजनाओं की घोषणा की।
 विधानसभा भगवंतनगर में में 98 करोड़ की लागत से कुल 101 किमी के 35 कार्यों की घोषणा।
 विधानसभा पुरवा में 94 करोड़ की लागत 62 किमी के 17 काम।
 सदर विधानसभा में 50 करोड़ की लागत 36 किमी के आठ काम।
 विधानसभा बांगरमऊ में 60 करोड़ से 45 किमी के आठ काम।
 सफीपुर विधानसभा में 53 करोड़ की लागत के कुल 25 किमी के चार काम।
मोहान विधानसभा में 49 करोड़ की लागत से 54 किमी के 25 काम।
इनके नाम पर बना रहे मार्ग

 शहीदों के नाम पर जय हिंद मार्ग व वीर पथ बनाने का काम कर रहे हैं।
 खिलाडिय़ों के नाम पर मेजर ध्यान चंद मार्ग
हर्बल पौधे लगाकर मार्ग का निर्माण
 पेपर व प्लास्टिक का उपयोग करके मार्ग बना रहे हैं।
सांसद आवास पर किया भोजन: डिप्टी सीएम निराला प्रेक्षागृह से कार्यक्रम समाप्त करने के बाद सांसद साक्षी महाराज के गदन खेड़ा स्थित आवास पर गए। वहां उन्होंने सांसद के साथ गुफ्तगू करते हुए भोजन किया। इसके बाद यहां से केशव कानपुर के लिए रवाना हो गए।


गढ़मुक्तेश्वर मेला को योगी सरकार की अनुमति, कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने के निर्देश

गढ़मुक्तेश्वर मेला को योगी सरकार की अनुमति, कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने के निर्देश

उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस पर लगभग अंकुश लगा चुके सीएम योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को कोरोना कर्फ्यू पूरी तरह से हटाने के बाद अब एक कदम और आगे बढ़ा दिया है। खुले मैदान में अब किसी तरह के आयोजन की कोई पाबंदी नहीं है। कार्तिक मास में दीपावली के बाद गढ़मुक्तेश्वर में करीब 15 दिन तक मेला लगता है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश में लगने वाले एक बड़े मेले के आयोजन को अनुमति प्रदान कर दी है। उन्होंने हापुड़ में लगने वाले गढ़मुक्तेश्वर मेले के आयोजन को अनुमति दी है। इसके साथ ही निर्देश भी दिया है कि वहां पर सभी स्थान पर कोविड प्रोटोकॉल के साथ भव्य रूप से मेले का आयोजन हो।


अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि कार्तिक मास में बीते दो वर्ष से प्रदेश के हापुड़ जनपद के गढ़मुक्तेश्वर के खादर में लगने वाला कार्तिक मेला स्थगित था। इस बार मुख्यमंत्री योगी ने ऐतिहासिक मेले के आयोजन के लिए निर्णय लिया है। मेले के आयोजन को लेकर अब शासनादेश जारी हो गया है। ऐसे में इस बाद दिवगंत परिजनों के दीपदान के लिए लोग खादर में पहुंच सकते हैं।

अपर मुख्य सचिव ने बताया कि कोरोना संक्रमण से बचाव और उपचार की व्यवस्थाओं को निरन्तर सुदृढ़ बनाए रखे जाने व कोविड नियमों के तहत सभी पर्व एवं त्योहारों को शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न कराने के निर्देश दिए हैं।


हापुड़ जिले के गढ़मुक्तेश्वर में कार्तिक पूर्णिमा पर लगने वाले मेले में कई राज्यों से लाखों श्रद्धालु पहुंचते हैं। यहां लोग अपने पुरखों की आत्मा की शांति के लिए दीपदान करते हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टीम-09 के साथ बुधवार को समीक्षा बैठक के बाद प्रदेश के सभी जिलों में कन्टेंमेंट जोन के बाहर रात का कर्फ्यू समाप्त करने का आदेश दिया था। कोविड प्रोटोकाल के अनुपालन की शर्त के अनुसार रात्रिकालीन कोरोना कर्फ्यू रात 11 बजे से सुबह 6 बजे तक लागू करने के आदेश थे।