देश की आजादी के महानायकों को समर्पित एक कार्यक्रम के दौरान सीएम योगी की आंखें हो गईं नम

देश की आजादी के महानायकों को समर्पित एक कार्यक्रम के दौरान सीएम योगी की आंखें हो गईं नम
लखनऊ में राष्ट्र की आजादी के महानायकों को समर्पित एक कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की आंखें नम हो गईं.

दरअसल, कार्यक्रम के दौरान लोक गायिका पद्मश्री मालिनी अवस्थी ने जैसे ही मंच पर मेरठ की क्रांति से लेकर काकोरी काण्ड की गाथा को गीत में पिरोकर अपनी आवाज में गुनगुनाया तो पूरा पांडाल तालियों और वीर सपूतों के जयकारों से गूंज उठा. क्रांति गीत में मेरठ के वीर सपूतों और काकोरी काण्ड की गाथा को सुन कार्यक्रम में उपस्थित मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की आंखे भर आईं.

सोशल मीडिया पर वायरल हुआ वीडियो
सीएम योगी के भावुक होने का एक वीडियो सोशल मीडिया पर भी वायरल हो रहा है. वहीं कई यूजर्स ने इस वीडियो को शेयर कर लिखा है कि मन उसी का व्यथित होता है जिसके दिल में हिंदुस्तान के वीरों के प्रति सच्ची संवेदना हो कार्यक्रम में संघ के दत्तात्रेय होसबोले और कृष्णगोपाल भी उपस्थित थे.
पांच वर्ष की उम्र से शुरू किया था गाना
पद्मश्री से सम्मानित स्वर साधिका और प्रसिद्ध लोक गायिका मालिनी अवस्थी ने भोजपुरी, अवधी और बुंदेली भाषाओं में रचे गीतों को अपनी मीठी आवाज दी है. यूपी के कई अंचलों में सावन में ‘कजरी’ गायी जाती है, मालिनी जी ने इन आंचलिक गीतों की परंपरा को नयी ऊंचाईयां दी. ठुमरी पर भी खूब स्वर साधा. वह बताती हैं कि पांच वर्ष की उम्र से ही गाना प्रारम्भ कर दिया था .

देश-विदेशों में बनाई पहचान
उत्तर प्रदेश के कन्नौज जिले में पैदा हुईं मालिनी बचपन से ही गुनगनाने लगी थीं, यही बचपन की मीठी तानें जब भातखण्डे संगीत संस्थान, लखनऊ से प्रशिक्षित होकर निकलीं तो राष्ट्र की आवाज बन गईं. बता दें कि उन्होंने कई फिल्मों में भी गाने गाए हैं, जिसमें एजेंट विनोद, लिपस्टिक अंडर माय बुर्का, दम लगा के हईशा आदि शामिल हैं. वह बनारस घराने की पद्म विभूषण विदुषी गिरिजा देवी, पौराणिक भारत शास्त्रीय गायिका की शिष्या हैं.

लखनऊ में राष्ट्र की आजादी के महानायकों को समर्पित एक कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की आंखें नम हो गईं.

दरअसल, कार्यक्रम के दौरान लोक गायिका पद्मश्री मालिनी अवस्थी ने जैसे ही मंच पर मेरठ की क्रांति से लेकर काकोरी काण्ड की गाथा को गीत में पिरोकर अपनी आवाज में गुनगुनाया तो पूरा पांडाल तालियों और वीर सपूतों के जयकारों से गूंज उठा. क्रांति गीत में मेरठ के वीर सपूतों और काकोरी काण्ड की गाथा को सुन कार्यक्रम में उपस्थित मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की आंखे भर आईं.