भिखारी के रूप में घूम रहे एक बुजुर्ग की पहचान हुई गुजरात के सेवानिवृत्त प्रबंधक के रूप में

भिखारी के रूप में घूम रहे एक बुजुर्ग की पहचान हुई गुजरात के सेवानिवृत्त प्रबंधक के रूप में

एटा में भिखारी के रूप में घूम रहे एक बुजुर्ग की पहचान गुजरात के सेवानिवृत्त प्रबंधक के रूप में हुई है. उनकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं बताई जा रही. पुलिस ने उन्हें कोतवाली नगर में रखा है. उनके गृह जनपद में परिजनों को टेलीफोन कर जानकारी दी गई है. कई दिन से एक आदमी रोडवेज बस स्टैंड के आसपास भीख मांगकर पेट भरता था. रविवार को उसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तो उसे गुजरात के लोगों ने पहचान लिया. इसके बाद क्षेत्रीय पुलिस को सूचना दी. 

बुजुर्ग ने परिजनों के बारे में दी जानकारी 

पुलिस बुजुर्ग को थाने ले आई. पूछताछ में बुजुर्ग ने अपने घर का पता और परिजन की जानकारी और टेलीफोन नंबर बताए. जिस पर पुलिस ने टेलीफोन कर जानकारी दी. कोतवाली नगर प्रभारी रामेंद्र शुक्ला ने बताया कि एक बुजुर्ग आदमी के बारे में जानकारी मिली. बस स्टैंड पहुंचकर उन्हें थाने लाए. वह मानसिक रूप से बीमार प्रतीत हो रहे हैं. वार्ता करने के दौरान पता लगा कि वह बैंक मैनेजर पद से सेवानिवृत्त हैं. 

दो अप्रैल से थे लापता  

सेवानिवृत्त प्रबंधक द्वारा बताए गए पते पर गुजरात के जनपद नवसारी थाना क्षेत्र के गांव चिखली में संपर्क किया गया. बताया गया कि वह लापता हो गए थे. 2 अप्रैल 2022 को उनकी गुमशुदगी वहां थाने में दर्ज कराई गई है. वह गुजरात से एटा कैस पहुंचे, यह अभी पता नहीं चल सका है. बुजुर्ग के भाई ने उनका नाम दिनेश कुमार और फिर दीनू भाई पटेल बताया है. परिजन गुजरात से एटा के लिए रवाना हो गए हैं.