योगी मॉडल के आगे यूपी में थमी Corona की रफ्तार

योगी मॉडल के आगे यूपी में थमी Corona की रफ्तार

लखनऊ उत्तर प्रदेश में कोविड-19 संक्रमण (Corona Infection) को रोकने के लिए योगी सरकार (Yogi Government) की सक्रियता के चलते कोविड-19 संक्रमण की दर में एक बड़ी गिरावट देखने को मिल रही है जिसके अनुसार आने वाले दिनों में उत्तर प्रदेश के अन्य कई जिलों के भी जल्द ही कोविड-19 मुक्त हो जाने की आसार जताई जा रही है शनिवार को 2.74 लाख टेस्ट के बावजूद पिछले 24 घंटे में केवल 524 पॉजिटिव केस (Positive Case) मिले अब रिकवरी रेट भी 98.1 फीसदी हो गई है अब तक कुल 5.30 करोड़ से अधिक टेस्ट हो चुके हैं

करीब एक लाख गांवों में 70,000 से अधिक नज़र समितियों ने घर घर जाकर की संक्रमितों की पहचान कर रही है इसी वजह से 25 करोड़ की सबसे अधिक आबादी के बाद भी उत्तर प्रदेश में मौत दर महाराष्ट्र और दिल्ली जैसे बहुत कम आबादी वाले राज्यों से बहुत कम रही है उत्तर प्रदेश में कोविड-19 संक्रमण को रोकने और कोविड-19 की तीसरी संभावित लहर से बचने के लिए युद्धस्तर पर वैक्सीनेशन का भी अभियान चलाया जा रहा है अब तक प्रदेश के 02 करोड़ 15 लाख 88 हजार 323 लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है यूपी में औसतन प्रतिदिन 4 लाख लोगों को वैक्सीन लगाई जा रही है जिसके चलते बीते 24 घंटों में 3,91,441 लोगों का टीकाकरण किया गया है

वैक्सीनेशन अभियान तेज

दरअसल, अभी तक दो करोड़ से भी अधिक कोविड-19 वैक्सीन की डोज एडमिनिस्टर की जा चुकी हैं उत्तर प्रदेश में प्रतिदिन लगभग चार लाख डोज लगाई जा रही हैं मुख्यमंत्री के आदेश पर अगले दो-तीन दिनों के भीतर 5 से 6 लाख लोगो को प्रतिदिन वैक्सीन लगाने का लक्ष्य तय किया गया है वहीं मुख्यमंत्री ने जुलाई माह में प्रतिदिन 10 से 12 लाख लोगो का वैक्सीनेशन करने का लक्ष्य निर्धारित करते हुए वैक्सीन लगवाने वालो की भी संख्या बढ़ाने के लिए आवश्यक कदम उठाने के भी आदेश दे दिए हैं


नौ जिले कोरोना से मुक्त, अब 729 एक्टिव केस; 24 घंटे में मिले 42 नए संक्रमित

नौ जिले कोरोना से मुक्त, अब 729 एक्टिव केस; 24 घंटे में मिले 42 नए संक्रमित

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की लगातार मॉनिटरिंग के कारण उत्तर प्रदेश में वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर पर प्रभावी नियंत्रण बना हुआ है। प्रदेश के नौ जिले अब कोरोना वायरस के घातक संक्रमण से पूरी तरह से मुक्त हो गए हैं।

उत्तर प्रदेश के नौ जिलों में अब कोरोना वायरस संक्रमण का एक भी एक्टिव केस नहीं है। वर्तमान में प्रदेश में एक्टिव केस की संख्या 729 रह गई है। ऐसी स्थिति कोरोना के शुरुआती दिनों में थी। प्रदेश में लगभग रोज ढाई लाख से अधिक कोरोना टेस्ट होने के बाद भी नए केस की संख्या में हर दिन गिरावट हो रही है। अब 24 घंटे की पॉजिटिविटी दर 0.01 फीसदी तक आ गई है। प्रदेश के अलीगढ़, अमरोहा, बस्ती, एटा, हाथरस, कासगंज, कौशांबी, महोबा और श्रावस्ती में अब कोरोना संक्रमण का एक भी केस नहीं है। सरकार का मानना है कि सीएम योगी आदित्यनाथ की ट्रेस, टेस्ट, ट्रीट नीति से कोरोना पर हुए अब तक हुए प्रभावी नियंत्रण को बनाए रखने में जनसहयोग बहुत आवश्यक है। यह जरूरी है कि संयम और जागरूकता का क्रम सतत बना रहे। सभी प्रदेशवासी कोविड अनुकूल व्यवहार को अपनी जीवनशैली का हिस्सा बनाएं।


प्रदेश में बीते 24 घंटे 42 नए संक्रमित मिले हैं, जबकि 91 लोग इसके संक्रमण से उबरे हैं। इस दौरान किसी भी जिले में दोहरे अंक में नए केस की पुष्टि नहीं हुई। 55 जिलों में संक्रमण का एक भी नया केस नहीं पाया गया, जबकि 20 में सिंगिल डिजिट के संक्रमित मिले हैं। इस दौरान प्रदेश में पॉजिटिविटी दर 0.01 प्रतिशत रही। प्रदेश में कोरोना की रिकवरी दर 98.6 प्रतिशत है। अब तक 16 लाख 84 हजार 925 से अधिक प्रदेशवासी कोरोना संक्रमण से मुक्त होकर स्वस्थ हो चुके हैं।


सर्वाधिक टेस्टिंग वाला राज्य

उत्तर प्रदेश सर्वाधिक कोविड टेस्टिंग करने वाला राज्य है। अब तक यहां छह करोड़ 52 लाख से अधिक कोविड सैम्पल की जांच की जा चुकी है। बीते 24 घंटे में दो लाख, 44002 कोविड सैम्पल की जांच की गई।

कानपुर में कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग

कानपुर में बीते दिवस संक्रमित मिले 22 लोगों की गहन कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग कराई गई। इनके परिवारीजन के साथ सम्पर्क में आए करीब 1,400 लोगों की कोविड टेस्टिंग कराई गई और एक भी पॉजिटिव मरीज की पुष्टि नहीं हुई। संक्रमित पाए गए सभी के बेहतर उपचार के लिए सभी इंतजाम हैं।


रफ्तार पर टीकाकरण

उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस टेस्टिंग के साथ कोविड टीकाकरण का कार्य सुचारु रूप से चल रहा है। अब तक उत्तर प्रदेश में चार करोड़ 67 लाख 83 हजार से अधिक कोविड वैक्सीन लगाए जा चुके हैं। इसमें भी तीन करोड़ 91 लाख से अधिक लोगों ने कम से कम कोविड की एक खुराक ले ली है। यह किसी एक राज्य का किया गया सर्वाधिक वैक्सीनेशन है। टीकाकरण के लिए ऑनलाइन पंजीकरण की प्रक्रिया को प्रोत्साहित किया जा रहा है।