नकली दवाओं का बड़ा जखीरा पकड़ा गया

नकली दवाओं का बड़ा जखीरा पकड़ा गया
हरिद्वार के रुड़की क्षेत्र में गुरुवार को फिर नकली दवाओं का बड़ा जखीरा पकड़ा गया है. एसटीएफ ने वहां पांच गोदामों पर छापे मारे थे. वहां से एक आरोपी को अरैस्ट किया गया, जबकि एक अन्य भाग निकला. एसटीएफ ने गोदामों से लाखों रुपये का कच्चा माल बरामद किया है.

ये दवाएं नामी कंपनियों के लेबल लगाकर बनाई जा रही थीं. एसटीएफ ने इनके अन्य साथियों की तलाश भी प्रारम्भ कर दी है. एसएसपी एसटीएफ अजय सिंह ने बताया कि पिछले माह लक्सर क्षेत्र में नकली दवा बनाने का पर्दाफाश किया गया था. इसके बाद लगातार एसटीएफ ऐसी गतिविधियों पर नजर बनाए हुए थी.

एसटीएफ की टीम को रुड़की के इकबालपुर में नकली दवा बनाने के बारे में जानकारी मिली थी. इसी सूचना के आधार पर वहां पांच गोदामों पर छापे मारे गए. यहां एक आदमी माल के साथ अरैस्ट किया गया. अरैस्ट आदमी का नाम देहरादून के प्रेमनगर निवासी नितिन जैन के रूप में हुई है, जबकि इसका रुड़की के रामनगर निवासी लोकेश गुलाटी फरार हो गया.

इन गोदामों में राष्ट्र की बड़ी कंपनी की विभिन्न नामी दवाओं के लेबल लगाए गए हैं. यह दवाएं कई रोगों के इलाज में काम आती हैं. पूछताछ में पता चला कि गोदाम उन्होंने किराये पर लिए हुए थे. इनमें विशाल नाम के आदमी का नाम भी सामने आया है. एसटीएफ जानकारी जुटानी प्रारम्भ कर दी है. आरोपी के विरूद्ध केस दर्ज कर लिया गया है. शुक्रवार को उसको न्यायालय में पेश किया जाएगा. 

पांच लाख गोलियां बरामद हुईं 

पहले भी अरैस्ट हुए थे चार लोग 

लक्सर क्षेत्र में भी एसटीएफ ने इसी तरह के गोदाम में छापा मारा था. वहां पर बंद पड़ी फैक्टरी में दवाएं बनाई जा रही थीं. इस मुद्दे में एसटीएफ ने चार लोगों को अरैस्ट किया था. इन गोदामों से भी लाखों की संख्या में गोलियां और रैपर बरामद हुए थे. एसटीएफ अब भी इस मुद्दे की जांच कर रही है. 

विस्तार

हरिद्वार के रुड़की क्षेत्र में गुरुवार को फिर नकली दवाओं का बड़ा जखीरा पकड़ा गया है. एसटीएफ ने वहां पांच गोदामों पर छापे मारे थे. वहां से एक आरोपी को अरैस्ट किया गया, जबकि एक अन्य भाग निकला. एसटीएफ ने गोदामों से लाखों रुपये का कच्चा माल बरामद किया है.

ये दवाएं नामी कंपनियों के लेबल लगाकर बनाई जा रही थीं. एसटीएफ ने इनके अन्य साथियों की तलाश भी प्रारम्भ कर दी है. एसएसपी एसटीएफ अजय सिंह ने बताया कि पिछले माह लक्सर क्षेत्र में नकली दवा बनाने का पर्दाफाश किया गया था. इसके बाद लगातार एसटीएफ ऐसी गतिविधियों पर नजर बनाए हुए थी.

एसटीएफ की टीम को रुड़की के इकबालपुर में नकली दवा बनाने के बारे में जानकारी मिली थी. इसी सूचना के आधार पर वहां पांच गोदामों पर छापे मारे गए. यहां एक आदमी माल के साथ अरैस्ट किया गया. अरैस्ट आदमी का नाम देहरादून के प्रेमनगर निवासी नितिन जैन के रूप में हुई है, जबकि इसका रुड़की के रामनगर निवासी लोकेश गुलाटी फरार हो गया.

इन गोदामों में राष्ट्र की बड़ी कंपनी की विभिन्न नामी दवाओं के लेबल लगाए गए हैं. यह दवाएं कई रोगों के इलाज में काम आती हैं. पूछताछ में पता चला कि गोदाम उन्होंने किराये पर लिए हुए थे. इनमें विशाल नाम के आदमी का नाम भी सामने आया है. एसटीएफ जानकारी जुटानी प्रारम्भ कर दी है. आरोपी के विरूद्ध केस दर्ज कर लिया गया है. शुक्रवार को उसको न्यायालय में पेश किया जाएगा.