वायरल

दुनिया का वो इकलौता मॉल, जहां दुकानों के सामने पार्क होती थी कार, लेकिन इसलिए यहाँ बना जेल

दुनिया में किसी बड़ी इमारत को बनाना आसान नहीं होता. इसमें वास्तुकार की कल्पना होती है. पूरी की पूरी प्लानिंग होती है कि इतना भारी निवेश किस  मकसद से किया जा रहा है. मॉल इसी श्रेणी की इमारतों में आते हैं. लेकिन दुनिया के एक कोने में एक अनोखा मॉल ऐसा भी है जिसकी शानदार प्लानिंग की गई. वह एक बहुत बड़ा ड्रीम प्रोजेक्ट भी बना लेकिन पूरा होते होते कुछ ऐसा हुआ कि यह एक जेल में बदल गया. यह मॉल वेनेजुएला के कैराकस के सैन ऑगस्टिन के बीच एक पहाड़ी पर बना है.

देखने में यह इमारत आज भी बहुत ही शानदार दिखती है जिसमें सर्पिल आकार का रैम्प है, जो ऊंचा होते होतो छोटा हो जाता है जो सबसे ऊपर एक डोम में आगर मिल जाता है. एल लिकक्वाइड या हेलिक्स वेनेजुएला के आधुनिकीकरण के आंदोलन का अहम हिस्सा था.  यह दुनिया पहले ड्राइव थ्रू शॉपिंग मॉल होना था जिसमें 2.5 मील लंबा सर्पिल रैम्प था जिससे कार ऊपर तक जा सकती थीं, ऊपर से नीचे आ सकती थीं और सीधे दुकानों के सामने ही पार्क की जा सकती थीं.

इस मॉल में 300 स्टोर, एक पांच सितारा होटल, एक सात स्क्रीन वाला थिएयर, एक्जीबीशन हॉल, जिम, एक पूल, नर्सरी और भी बहुत कुछ होना था. इस प्रोजेक्ट को 1950 के दशक में ही प्रोड्रो न्यूबर्गर, डिर्कबोर्नहोर्स्ट और जॉर्ज रोमेरो गुतिएरेज वास्तुकारों ने वेनेजुएला के तत्कालीन तानाशाह राष्ट्रपति मार्कोस पेरेज जेमिनेज के लिए डिजाइन किया था.

यह इमारत पूरी होने ही वाली थी कि पेरेज जेमिनेज की तानाशाही खत्म हो गई और प्रोजोक्ट को मिलने वाली फंडिंग बंद हो गई.  नई सरकार ने किसी तरह की रुचि नहीं दिखाई और 1961 को ही इस इमारत का निर्माण रुक गया. जबकि उसे पूरा होने में केवल एक साल रह गया था. 1975 में दिवालिएपन के कारण यह सम्पत्ति सरकारी हो गई.

पहले 1979 में भूस्खलन पीड़ित यहां रहने आए फिर तीन साल में लोग गैरकानूनी तरीकों से इसमें रहने लगे और यह फ्लैश ट्रेड और ड्रग्स ट्रैफिकिंग का अड्डा बन गया. 1982 में यहां पर कब्जा करने वाले लोगों को हटाया गया, पहले इसे म्यूजियम बनाने का तय किया गया, लेकिन 1984 में  वेनेजुएला इंटेलिजेंस पुलिस ने इसे अपना हेडक्वार्टर बना दिया.

शुरू में इसके कमरों का इस्तेमाल लोगों को बंद करने और अपराधियों को यातना देने के लिए हुए, लेकिन बाद में इसे पूरी तरह से एक प्रकार के कैदखाने में बदल दिया गया. निगरानी कैमरे लगा दिए गए और कई तरह के अपराधियों को रखा जाने लगा. आज इसे एक जेल कहा जाता है. कई गैर सरकारी संस्थाएं और रिपोर्ट यहां मानवाधिकार के हनने के मामलों की बातें करती हैं, तमाम जाचों के बाद भी यह इमारत वेनेजुएला की एक खतरनाक जेल मानी जाती है

 

Related Articles

Back to top button