बिल्ली और केकड़े का ये वीडियो देख आप हमेशा अपने काम से काम रखोगे!

बिल्ली और केकड़े का ये वीडियो देख आप हमेशा अपने काम से काम रखोगे!

अपने काम से काम रखना सबसे मुश्किल काम है। बंदा अपने आप से कम दूसरों के काम से ज्यादा दुखी है। इसलिए सियाने लोग कहते हैं कि भई काम रखो अपने काम से। अब एक बिल्ली और केकड़े का वीडियो सामने आया है। जो ये कहावत सच कर दिखाएगा कि भाई क्यों अपने आप से काम रखना जरूरी है।

आराम से बैठे केकड़े को बिल्ली ने छेड़ा

इस वीडियो में देखा जा सकता है कि एक बिल्ली आराम से चिल्ल मार रहे केकड़े को छेड़ती है। वो उसे पैर लगाती है। इतने में केकड़ा उसे पकड़ लेता है। अब फिर बिल्ली जो उछल-कूद मचाती है कि वीडियो बनाने वाले से लेकर देखने वाले सब हंसी आने लगती है।

हो गया ना सियापा?

समझे… ना बिल्ली पंगे लेती ना ही ये कांड होता। वैसे अपना काम छोड़ दूसरों से पंगा लेने वाले दोस्त को तो ये वीडियो भेजना ही चाहिए… क्यों?


यहां के लोग लोग अपने पूरे शरीर पर गुदवाते हैं राम नाम के टैटू

यहां के लोग लोग अपने पूरे शरीर पर गुदवाते हैं राम नाम के टैटू

यहां 100 सालों से भी ज्यादा लंबे वक्त से छत्तीसगढ़ की रामनामी समाज में एक अनोखी परंपरा चली आ रही है। इस समाज के लोग पूरे शरीर पर राम नाम का टैटू बनवाते हैं, लेकिन न मंदिर जाते हैं और न ही मूर्ति पूजा करते हैं। इस तरह के टैटू को लोकल लैंग्वेज में गोदना कहा जाता है। दरअसल, इसे भगवान की भक्ति के साथ ही सामाजिक बगावत के तौर पर भी देखा जाता है। टैटू बनवाने के पीछे है इनकी बगावत की कहानी।

यूं तो भारत को विविधताओं वाला देश कहा जाता है, यहां कि कुछ प्रथा व परंपरा ऐसी है जो हमें अचंभे में डाल देती है।यहां हर धर्म के लोग और हर धर्म का अलग-अलग स्वरुप देखने को मिलता है। भारत में एक ऐसा ही राज्य है छत्तीसगढ़ जहां एक अनोखी परंपरा है जिसे 'रामनामी' के नाम से जाना जाता है।

कहा जाता है कि 100 साल पहले गांव में हिन्दुओं के ऊंची जाति के लोगों ने इस समाज को मंदिर में घुसने से मना कर दिया था। इसके बाद से ही इन्होंने विरोध करने के लिए चेहरे सहित पूरे शरीर में राम नाम का टैटू बनवाना शुरू कर दिया। लोगों का मानना है कि, रामनामी समाज को रमरमिहा के नाम से भी जाना जाता है। कई लोग इस परंपरा को पिछले 50 सालों से निभा रहे हैं। वहां के लोग बताते हैं, जिस दिन मैंने ये टैटू बनवाया, उस दिन मेरा नया जन्म हो गया। 50 साल बाद उनके शरीर पर बने टैटू कुछ धुंधले से हो चुके हैं, लेकिन उनके इस विश्वास में कोई कमी नहीं आई है। रामनामी जाति के लोगों की आबादी तकरीबन एक लाख है और छत्तीसगढ़ के चार जिलों में इनकी संख्या ज्यादा है। सभी में टैटू बनवाना एक आम बात है।

इस समाज में पैदा हुए लोगों को शरीर के कुछ हिस्सों में टैटू बनवाना जरूरी है। खासतौर पर छाती पर और दो साल का होने से पहले। टैटू बनवाने वाले लोगों को शराब पीने की मनाही के साथ ही रोजाना राम नाम बोलना भी जरूरी है। ज्यादातर रामनामी लोगों के घरों की दीवारों पर राम-राम लिखा होता है। इस समाज के लोगों में राम-राम लिखे कपड़े पहनने का भी चलन है, और ये लोग आपस में एक-दूसरे को राम-राम के नाम से ही पुकारते हैं।

नखशिख राम-राम लिखवाने वालों ने बताया कि रामनामियों की पहचान राम-राम का गुदना गुदवाने के तरीके के मुताबिक की जाती है। शरीर के किसी भी हिस्से में राम-राम लिखवाने वाले रामनामी। माथे पर राम नाम लिखवाने वाले को शिरोमणि। और पूरे माथे पर राम नाम लिखवाने वाले को सर्वांग रामनामी और पूरे शरीर पर राम नाम लिखवाने वाले को नखशिख रामनामी कहा जाता है।


मदरसे आतंकियों का ठिकाना, पाकिस्तान पर US का बड़ा दावा       62 कैदियों की मौत, तीन शहरों की जेलों में गैंगवार       भारत से बातचीत पर कही इतनी बड़ी बात, इमरान ने श्रीलंका में भी अलापा कश्मीर राग       ट्रांसजेंडर कंफर्मेशन सर्जरी, दुनिया में पहली बार हुआ ऐसा       राष्ट्रपति बाइडेन ने पलटा ट्रंप का ये फैसला, भारतीयों के लिए बड़ी खुशखबरी!       भाजपा को मिला हमले का बड़ा मौका, राहुल के सेल्फ गोल से मुसीबत में कांग्रेस       सोशल मीडिया पर बड़ी खबर! सरकार ला रही ये नया नियम       टूटा 15 सालों का रिकॉर्ड, राजधानी में लोगों का हाल-बेहाल       बेटा बना IAS अधिकारी, पिता ने घर बेचकर पढ़ाया       भारत को विश्व स्तर के बुनियादी ढांचे की जरूरत : PM मोदी       यहां जानिए किन-किन सेवाओं पर पड़ेगा असर, देश भर में कल भारत बंद       करोड़पति हुआ मजदूर, खुदाई में मिली ऐसी बेशकीमती चीज       LoC पर बड़ी खबर: भारत-पकिस्तान के बीच हुई ये बात       बरामद 40 करोड़ की ड्रग्स: NCB की ताबड़तोड़ कार्रवाई जारी, तस्करों में मची खलबली       खत्म Board Exam की टेंशन: सरकार का बड़ा फैसला, अब पास होंगे सभी छात्र       भीष्म द्वादशी, जानें शुभ मुहूर्त और महत्व       प्रदोष व्रत एवं भीष्म द्वादशी आज, पढ़ें 24 फरवरी 2021 का पंचांग       कब है माघ पूर्णिमा? जानें तिथि, मुहूर्त एवं महत्व       आज है प्रदोष व्रत, जानें कब है माघ पूर्णिमा       कई रोगों से रहते हैं घिरे, ब्रह्म मुहूर्त में गलती से भी न करें ये काम