टिकट कंफर्म कराने का लालच देकर ठगी को दिया अंजाम

टिकट कंफर्म कराने का लालच देकर ठगी को दिया अंजाम
पुलिस ने रेलवे टिकट कंफर्म कराने के नाम पर लोगों को अपनी ठगी का शिकार बनाने वाले रैकेट को अरैस्ट कर सलाखों के पीछे भेज दिया है दरअसल, ये लोग एक रैकेट बनाकर लोगों को कंफर्म टिकट दिलाने के लिए एक फर्जी टीटी से मिलवाते थे इसके साथ ही सुरक्षा के नाम पर लोगों के कीमती सामान अपने पास रख लेते और फिर झांसा देकर उनका सामना लेकर फरार हो जाते थे"

दिल्ली के सोनिया विहार थाना पुलिस ने रेलवे टिकट कंफर्म कराने के नाम पर लोगों को अपनी ठगी का शिकार बनाने वाले रैकेट को अरैस्ट कर सलाखों के पीछे भेज दिया है दरअसल, ये लोग एक रैकेट बनाकर लोगों को कंफर्म टिकट दिलाने के लिए एक फर्जी टीटी से मिलवाते थे

  • टिकट कंफर्म कराने का लालच देकर ठगी को दिया अंजाम
  • नकली रेलवे टीटी लोगों को अपनी ठगी का बनाते थे शिकार
  • शिकायत के बाद पुलिस ने पहुंचाया सलाखों के पीछे

  

दिल्ली के सोनिया विहार थाना पुलिस ने रेलवे टिकट कंफर्म कराने के नाम पर लोगों को अपनी ठगी का शिकार बनाने वाले रैकेट को अरैस्ट कर सलाखों के पीछे भेज दिया है दरअसल, ये लोग एक रैकेट बनाकर लोगों को कंफर्म टिकट दिलाने के लिए एक फर्जी टीटी से मिलवाते थे इसके साथ ही सुरक्षा के नाम पर लोगों के कीमती सामान अपने पास रख लेते और फिर झांसा देकर उनका सामना लेकर फरार हो जाते थे

आरोपियों ने ऐसे बनाया ठगी का शिकार
पुलिस को 18 जून को रेलवे टिकट कन्फर्म कराने के नाम पर फर्जीवाड़ा करने की एक कम्पलेन मिली थी कम्पलेन में रणवीर कुमार नाम के शख्स ने बोला  कि उसको ट्रेन से बिहार जाना था इस दौरान जब वो अपने सम्बन्धी के साथ जहांगीरपुरी से नयी दिल्ली रेलवे स्टेशन तक मेट्रो ट्रेन से यात्रा कर रहा था उसी दौरान उन्हें दो अज्ञात लोगों ने अपने को बिहार का ही यात्री बताकर मेलजोल बढ़ा लिया रणवीर के पास कंफर्म टिकट नहीं था लिहाजा, कन्फर्म टिकट दिलाने के नाम पर दोनों आदमी उन्हें सोनिया विहार के तीसरे पुश्ता पर ले गए और  वहां  तीसरे व्यक्‍त‍ि से भारतीय रेलवे में टीटीई के रूप में मिलाया बाद में रणवीर और उसके सम्बन्धी का डकैती डर दिखाया और उनका सारा कीमती सामान, एटीएम, सोने की अंगूठी और मोबाइल टेलीफोन को एक हैंड बैग में रख लिया इसके बाद बाद में वो तीनों हैंड बैग लेकर एक के बाद एक गायब हो गए

आरोपी ऐसे चढ़े पुलिस के हत्थे
इस मुद्दे में पुलिस ने सोनिया विहार थाने में मामला दर्ज कर जांच प्रारम्भ की इस दौरान पुलिस ने जहांगीरपुरी विधानसभा मेट्रो स्टेशन से सोनिया विहार तीसरे पुस्ता तक लगे सभी सीसीटीवी कैमरों के  फुटेज को स्कैन किया जांच में पता चला कि आरोपी मोटरसाइकिल पर  फरार हुए थे पुलिस मोटरसाइकिल की आरसी पर दिए गए पते पर पहुंची और मोबाइल नंबर के आधार पर टेक्निकल सर्विलांस और लोकल इंटेलिजेंस के माध्यम से सभी आरोप‍ियों का पता लगाकर उनको अरैस्ट कर लिया

आरोपियों से डकैती का माल बरामद
गिरफ्तार किए गए रवि कुमार महतो और कमलेश ने पूछताछ में अपना गुनाह कबूल कर लिया इसके साथ ही अपने साथियों के बारे में भी खुलासा कर दिया रव‍ि पर पहले भी फर्जीवाड़ा के दो मुद्दे दर्ज हैं पुलिस ने पीड़ित से ठगा गया एटीएम कार्ड, सोने की अंगूठी और मोबाइल टेलीफोन बरामद कर लिया है पुलिस इस मुद्दे में तीसरे आरोपी आदमी की गिरफ्तारी के लिए जुटी है





दुनिया की सबसे बुजुर्ग एयर होस्टेस इतने साल से कर रही हैं नौकरी

दुनिया की सबसे बुजुर्ग एयर होस्टेस इतने साल से कर रही हैं नौकरी

जब भी हम फ्लाइट में ट्रैवेल करते हैं तो आमतौर फ्लाइट अटेंडेंट या एयर होस्टेस के तौर पर हमारे सामने कुछ खूबसूरत महिलाएं आती हैं वे जितने फिट होती हैं, उतने ही बेहतरीन ढंग से अपना काम भी करती हैं सोचिए, यदि उनकी स्थान कोई दादी मां फ्लाइट अटेंडेंट के तौर पर आपके सामने आएं, तो झटका लगेगा ना ? दरअसल हमें किसी अधेड़ या बुजुर्ग स्त्री को एयर होस्टेस के तौर पर देखने की आदत नहीं है, लेकिन एक दादी मां की उम्र की अमेरिकन स्त्री आज भी फ्लाइट अटेंडेंट के तौर पर काम कर रही हैं

86 वर्ष की अमेरिकन स्त्री बेटी नैश (Bette Nash) दुनिया की सबसे बुजुर्ग एयर होस्टेस हैं, जो पिछले 65 वर्ष से जॉब कर रही हैं ये अपने आपमें एकदम अनोखा वर्ल्ड रिकॉर्ड है बोस्टन की रहने वाली बेटी नैश अमेरिकन एयरलाइंस के लिए फ्लाइट अटेंडेंट का काम करती हैं और वे अब दुनिया की सबसे बुजुर्ग फ्लाइट अटेंडेंट बन चुकी हैं

1957 से कर रही हैं काम
बेटी नैश (Bette Nash) ने एयर होस्टेस के तौर पर अपना करियर वर्ष 1957 से प्रारम्भ किया था, जब आदमी ने पहली सैटेलाइट बनाई थी उस समय उन्हें ये आज़ादी मिलती थी कि वे अपने मन अनुसार रूट का चुनाव कर सकें बेटी न्यूयॉर्क-बोस्ट- वॉशिंगटन डीसी रूट पर ज्यादातर समय जाती थीं एबीसी न्यूज़ के अनुसार ये काम करते हुए बेटी को 65 वर्ष का समय बीत चुका है और इस रूट पर यात्रा करने वालों के लिए वे बहुत जाना-पहचाना चेहरा हैं वे एक ही रूट पर इसलिए जाती हैं, क्योंकि इसके ज़रिये वे हर रात अपने बेटे के साथ घर पर बिता पाती हैं और वे अपने हाइपर सक्रिय मां की देखभाल कर पाते हैं

मर्दों को भी छोड़ा पीछे
आमतौर पर मर्दों को करियर की बात करें तो मर्दों का करियर भी 63 वर्ष का होता है और बेटी उसको भी 2 वर्ष पीछे छोड़ चुकी हैं वे पूरी तरह सक्रिय हैं और अपने यूनिफॉर्म में तैयार होकर काफी अच्छी लगती हैं यदि बेटी सबसे अधिक लंबे समय तक काम करने वाली स्त्री हैं, तो इसी वर्ष ब्राज़ील के एक शख्स ने सबसे अधिक समय तक काम करने का वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया था उनका नाम वॉल्टर ऑर्थमन है और वे 84 वर्ष से एक ही कंपनी के लिए काम कर रहे हैं वॉल्टर की उम्र 100 वर्ष हो चुकी है