पेड़ से टंगी भयानक गुड़ियों का द्वीप,रात होते ही बोलने-बतियाने लगती हैं गुड़िया

पेड़ से टंगी भयानक गुड़ियों का द्वीप,रात होते ही बोलने-बतियाने लगती हैं गुड़िया

 जिन लोगों को घूमने-फिरने का शौक होता है, वो तरह-तरह की जगहों पर जाना चाहते हैं हालांकि दुनिया में कुछ ऐसी जगहें भी हैं, जहां न जाने में ही भलाई है ऐसी ही कुछ हॉन्टेड जगहों में से एक है मैक्सिको का ‘ला इस्ला डे ला म्यूनेकस’ द्वीप ये द्वीप पेड़-पौधों से गुलज़ार है, लेकिन यहां रात को आने की लोगों की हौसला नहीं होती है इसकी वजह द्वीप में लगे पेड़ों पर लटकी हुई गुड़ियों की फौज है, जो उन्हें यहां आने से रोकती है

यूं तो छोटे बच्चे गुड़ियों को देखकर ही उन्हें लेने के लिए दौड़ पड़ते हैं लेकिन एक ऐसी स्थान भी है कि जहां ढेरों गुड़िया उपस्थित हैं, फिर भी बच्चे छोड़िए, बड़े भी वहां जाने से खौफ खाते हैं खासतौर पर रात में कोई भी इन गुड़ियों के इर्द-गिर्द भी नहीं जाना चाहता 1990 में जोचिमिको कनाल की सफाई के समय यह लोगों की नजर में आया था और फिर एक दशक बाद पूरे विश्व में चर्चा का विषय बन गया

क्या है इन गुड़ियों के पीछे का सच?
यूं तो सरकारी दस्तावेज़ों में द्वीप के भूतिया होने का ज़िक्र नहीं है, लेकिन लोगों का मानना है कि इन गुड़ियों में एक छोटी बच्ची की आत्मा रहती है वर्ष 2001 तक डॉन जूलियन सैंटाना बरेरा ‘ला इस्ला डे ला म्यूनेकस’ आइलैंड का केयरटेकर था वो यहां अकेला ही रहता था बताते हैं कि जूलियन को यहां एक बच्ची की डूबने के बाद तैरती हुई मृत शरीर मिली, जिसकी सांस चल रही थी वो उसे बचा नहीं पाया और इस घटना के बाद उसे वहीं एक गुड़िया भी मिली कहते हैं उसने पेड़ पर इसे टांग दिया और उसे एक के बाद एक गुड़िया मिलती चली गई उसने बच्ची की आत्मा की शांति के लिए सारी गुड़िया पेड़ पर लटका दी और स्वयं उसकी मृत्यु वर्ष 2001 में हो गई

रात होते ही बोलने-बतियाने लगती हैं गुड़िया
 रिपोर्ट के अनुसार क्षेत्रीय लोग भूत-प्रेतों में विश्वास करते हैं और उन लोगों का बोलना है कि बच्ची जहां मरी थी, वहीं जूलियन की भी मृत्यु हुई गुड़ियों ने वहीं अपनी दुनिया बसा ली है और वो यहां आने वाले लोगों को इशारे से अपनी ओर बुलाती हैं वे रात में बातें करने लगती हैं और दिन में उनके आंखों की पुतलियां भी घूमती हैं गुड़ियों की हालत देखकर कोई भी डर जाएगा क्योंकि इनमें से कुछ के सिर पीछे हैं तो कुछ बिना सिर के भी हैं