भारी बारिश से लखनऊ जलमग्न, सड़कों-गलियों और घरों में भरा पानी

भारी बारिश से लखनऊ जलमग्न, सड़कों-गलियों और घरों में भरा पानी

राजधानी में लगातार बारिश से जहा मौसम सुहाना हो गया है, वहीं कई इलाकों में पेड़ गिरने और जगह जगह जलभराव से यातायात में दिक्कतें आ रही है। कई मुख्य मार्ग पेड़ गिरने से बंद हो गए हैं। कपूरथला और निरालानगर में पेड़ गिर गए, जिससे सड़कें बंद हो गई हैं। बीती रात से लगातर बारिश के साथ तेज हवाएं भी चल रही है। इसका नतीजा यह रहा कि तापमान में गिरावट से लोगो को उमस और गर्मी से निजात मिली है। मौसम विभाग का कहना है आज दिन भर तो बारिश होगी ही अगले दो-तीन दिन भी बादलों की आवाजाही के बीच बूंदाबादी होती रहेगी। 

बादलों ने राजधानी में बुधवार रात से ही मूसलाधार बारिश का सिलसिला जारी रखा है। रातभर हुई तेज बारिश से धरती का कलेजा तो ठंडा हो गया, लेकिन आम लोगों की परेशानी भी बढ़ गई हैं। पिछले 15 घंटों से जारी बारिश से लोगों को गर्मी और उमस से भी राहत जरूर मिली है, लेकिन कालोनियों में पानी भरने और यातायात प्रभावित होने से आम जनजीवन पर बड़ा असर पड़ा है। इस साल मानसून में यह सबसे अधिक बारिश रिकॉर्ड की गई है। मौसम विभाग के अनुसार अगले 24 घंटे तक बारिश के आसार ऐसे ही बने रहेंगे। इसके अलावा हमीरपुर, वाराणसी, प्रयागराज, फतेहपुर, अमेठी और प्रतापगढ़ इत्यादि जनपदों में तेज बारिश जारी रहने का अनुमान लगाया गया है। 

मौसम विभाग के निदेशक डॉ जेपी के गुप्ता के अनुसार हमीरपुर, वाराणसी, फतेहपुर के अलावा सुल्तानपुर अमेठी, गाजीपुर, झांसी, बांदा, बलिया गोरखपुर, उरई इत्यादि जनपदों में तेज बारिश की की संभावना अगले 24 घंटे तक बनी रहेगी। इस दौरान लोगों को घर से बाहर नहीं निकलने व पुराने मकान मकानों में रह रहे लोगों को विशेष सावधानी बरतने की सलाह दी गई है। लखनऊ में गुरुवार को हजरतगंज, चारबाग, चौक, कैसरबाग, डालीगंज, पुराना लखनऊ, महानगर, निशातगंज, कपूरथला, बालाघाट, जियामऊ, गोमती नगर, इंदिरा नगर, कृष्णा नगर, अलीगंज, सदर, अर्जुनगंज, आलमबाग, एयरपोर्ट, रायबरेली रोड, सीतापुर रोड, हरदोई रोड, अयोध्या रोड इत्यादि सभी इलाकों में भूमकर बारिश हो रही है। तेज बारिश के चलते लखनऊ के कई कालोनियों और सड़कों पर जलभराव भी हो गया है।

तेज बारिश का सिलसिला जारी रहने से सुबह स्कूल जाने वाले बच्चे और दफ्तर जाने वाले लोगों को भी भारी परेशानी का सामना करना पड़ा। ज्यादातर स्कूलों ने भारी वर्षा के चलते पठन पाठन कार्यक्रम स्थगित करने का फैसला लिया। वहीं कुछ स्कूल सुबह का सेशन ऑनलाइन चला रहे हैं। ताकि स्कूल नहीं पहुंच पाने वाले बच्चे घर पर रहकर ही ऑनलाइन क्लास ज्वाइन कर सकें।  मौसम विभाग के अनुसार आज दिन का अधिकतम तापमान 29 डिग्री और न्यूनतम तापमान 26 डिग्री से कम रहने का अनुमान है। दिनभर बारिश का सिलसिला जारी रह सकता है। उल्लेखनीय है कि रात भर से जारी तेज बारिश के चलते अधिकांश इलाकों में बिजली की आपूर्ति भी बाधित चल रही है। इससे भी लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है।

 
भारी बारिश के बावजूद नगर आयुक्त निकले निरीक्षण पर: एक तरफ लगातार हो रही भारी बारिश से लोग घरों से निकलने से बच रहे हैं, वहीं नगर आयुक्त अजय द्विवेदी शहर का हाल लेने निकल पड़े। उन्होंने गोमती बैराज सहित कई स्थलों का निरीक्षण किया। उधर, रात भर बारिश के कारण शहर के कई क्षेत्रों में जल भराव हो गया है। इसके दृष्टिगत सभी 48 बाढ़ पम्पिंग स्टेशन अपनी पूरी क्षमता पर चल रहे हैं। कुकरैल में बेकफ़्लो होने के चलते सिंचाई विभाग से समन्वय करके गोमती बराज का गेट खुलवा दिया गया है ताकि तत्काल जल निकासी हो जाये। जल भराव के स्थलों पर अस्थायी पम्पिंग, पम्पसेट लगाकर किया जा रहा है। नगर आयुक्त एवं अन्य अधिकारियों, जलकल विभाग के अधिकारियों द्वारा क्षेत्र में भ्रमणशील होकर निरीक्षण किया जा रहा है एवं जल निकासी का प्रबंधन किया जा रहा है ।


गढ़मुक्तेश्वर मेला को योगी सरकार की अनुमति, कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने के निर्देश

गढ़मुक्तेश्वर मेला को योगी सरकार की अनुमति, कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने के निर्देश

उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस पर लगभग अंकुश लगा चुके सीएम योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को कोरोना कर्फ्यू पूरी तरह से हटाने के बाद अब एक कदम और आगे बढ़ा दिया है। खुले मैदान में अब किसी तरह के आयोजन की कोई पाबंदी नहीं है। कार्तिक मास में दीपावली के बाद गढ़मुक्तेश्वर में करीब 15 दिन तक मेला लगता है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश में लगने वाले एक बड़े मेले के आयोजन को अनुमति प्रदान कर दी है। उन्होंने हापुड़ में लगने वाले गढ़मुक्तेश्वर मेले के आयोजन को अनुमति दी है। इसके साथ ही निर्देश भी दिया है कि वहां पर सभी स्थान पर कोविड प्रोटोकॉल के साथ भव्य रूप से मेले का आयोजन हो।


अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि कार्तिक मास में बीते दो वर्ष से प्रदेश के हापुड़ जनपद के गढ़मुक्तेश्वर के खादर में लगने वाला कार्तिक मेला स्थगित था। इस बार मुख्यमंत्री योगी ने ऐतिहासिक मेले के आयोजन के लिए निर्णय लिया है। मेले के आयोजन को लेकर अब शासनादेश जारी हो गया है। ऐसे में इस बाद दिवगंत परिजनों के दीपदान के लिए लोग खादर में पहुंच सकते हैं।

अपर मुख्य सचिव ने बताया कि कोरोना संक्रमण से बचाव और उपचार की व्यवस्थाओं को निरन्तर सुदृढ़ बनाए रखे जाने व कोविड नियमों के तहत सभी पर्व एवं त्योहारों को शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न कराने के निर्देश दिए हैं।


हापुड़ जिले के गढ़मुक्तेश्वर में कार्तिक पूर्णिमा पर लगने वाले मेले में कई राज्यों से लाखों श्रद्धालु पहुंचते हैं। यहां लोग अपने पुरखों की आत्मा की शांति के लिए दीपदान करते हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टीम-09 के साथ बुधवार को समीक्षा बैठक के बाद प्रदेश के सभी जिलों में कन्टेंमेंट जोन के बाहर रात का कर्फ्यू समाप्त करने का आदेश दिया था। कोविड प्रोटोकाल के अनुपालन की शर्त के अनुसार रात्रिकालीन कोरोना कर्फ्यू रात 11 बजे से सुबह 6 बजे तक लागू करने के आदेश थे।