पेट में होने वाली बीमारियों को इन घरेलू नुस्खों से किया जा सकता है दूर

पेट में होने वाली बीमारियों को इन  घरेलू नुस्खों से किया जा सकता है दूर

लाइव हिंदी समाचार (हेल्थ कार्नर ) :-  गर्मी में पेटदर्द, एसिडिटी, कब्ज, गैस, बदहजमी होना आम है. खानपान का ध्यान और घरेलू नुस्खों को अपनाकर इन समस्याओं को दूर किया जा सकता है. जानते हैं इन नुस्खों के बारे में-

पेटदर्द – चावल का पानी यानी मांड का प्रयोग पेटदर्द दूर करने के लिए किया जाता है. पुदीने के पत्तों को चबाकर खाने से भी पेट दर्द में राहत मिलती है. इसे 3-5 मिनट तक पानी में उबालने के बाद छालकर इसमें शहद मिलाकर गुनगुना ही पीएं. एक टी स्पून सौंफ को चबाकर खाएं. गर्भवती महिलाएं इसे न खाएं. पेट दर्द की परेशानी अधिक बढ़े तो गर्म पानी में नींबू का रस पीने से भी दर्द में आराम मिलता है.

कब्ज – कब्ज की स्थिति में गुड़ खा सकते हैं. चाहें तो पानी या चाय में मिलाकर भी ले सकते हैं. रात को डिनर के बाद गुड़ खाने से कब्ज की परेशानी नहीं रहती है. खाने के बाद वॉक जरूर करें, इससे कब्ज की स्थिति नहीं बनती है. एक टेबल स्पून ऑलिव ऑयल सुबह खाली पेट लें, चाहें तो इसमें एक टी स्पून नींबू का रस भी मिला सकते हैं. इसमें संतरे का जूस लेना भी लाभकारी होता है.

गैस – दालचीनी की चाय बनाकर पीएं. इससे आराम मिलता है. सोंठ, सौंफ और इलायची के दानों को समान मात्रा में लेकर पीस लें. एक कप पानी में इस पाउडर की एक टी-स्पून मात्रा और चुटकीभर हींग मिलाकर दिन में एक या दो बार पीएं. अदरक की चाय दिन में दो-तीन बार पीने से गैस नहीं बनती है.

Latest Health News Hindi, Current Health Articles Hindi, स्वास्थ्य से संबंधित खबरें, Fitness news, Health Tips

बदहजमी – बदहजमी के दौरान छिलका सहित सेब खाएं, राहत मिलेगी क्योंकि इसमें फाइबर होता है. संतरा खाना लाभकारी है. एक टी स्पून दालचीनी पाउडर को उबालकर गुनगुना पीने से बदहजमी और इसके दर्द से राहत मिलती है. अन्नानास का रस भी इसमें राहत दिलाता है.

एसिडिटी – एसिडिटी होने पर पका केला खाएं. इसमें पोटेशियम होने के कारण पीएच अधिक होता है ये एसिडिटी को समाप्त करता है. तुलसी के पत्ते चबाने से पेप्टिक एसिड के असर कम होता है. जीरा चबा-चबाकर खाएं या फिर पानी में उबालकर ठंडा होने पर पीएं. लौंग चबाने से भी एसिडिटी में आराम मिलता है.