संकट में मदद देने के लिए US के बाद इजरायल ने हिंदुस्तान को कहा- शुक्रिया       कोरोना से नहीं हारे जॉनसन: आईसीयू से बाहर आए, डोनाल्ड ट्रंप ने कहा...       अमेरिका ने चाइना को दी Telecom बैन करने की धमकी, कोरोना को लेकर गहराया विवाद       कोरोना: 10 लाख लोगों के लिए सिर्फ 5 बेड, सुविधाओं की कमी से जूझ रहे अफ्रीकी देश       लंदन उच्च न्यायालय ने टाली सुनवाई, दिवालिया घोषित नहीं होगा विजय माल्या       घर आंगन में फिर फुदकने लगी है नन्ही गौरेया       कोरोना: न्यूजीलैंड ने हिंदुस्तान के साथ प्रारम्भ किया था लॉकडाउन       तस्वीरें: लॉकडाउन से पर्यावरण में पड़ी जान, गंगा-यमुना का पानी हुआ साफ       Honor Play 4T व Play 4T Pro हुए लॉन्च, दोनों में मिलेगी 4,000mAh की बैटरी       महाराष्ट्र: उद्धव ठाकरे की कुर्सी पर मंडराया कोरोना का खतरा       वर्ल्ड हैपिनेस रिपोर्ट के बहाने उदित राज ने साधा निशाना, बोले...       पीएम मोदी ने कहा कि भारत कोरोना से निपटने में अपने मित्रों की हरसंभव मदद करने के लिए तैयार       संकट में मदद देने के लिए US के बाद इजरायल ने हिंदुस्तान को कहा...       जानें कैसे करती है कोरोना से बचाव, 350 रुपये में तैयार की पीपीई किट       जेईई मेन के आवेदनकर्ता को मिला सुनहरा मौका       जम्मू और कश्मीर पर टिप्पणी करने पर हिंदुस्तान ने चाइना को घेरा, कहा...       कोरोना के विरूद्ध दिल्ली सरकार की तैयारी, जानें क्या है 'ऑपरेशन शील्ड'       PM मोदी ने वाराणसी बीजेपी जिलाध्यक्ष को किया फोन, कहा...       कोरोना वायरस के मद्देनजर नेवी में भर्ती पर रोक, एडमिरल करमबीर सिंह बोले...       कोरोना से जंग में लगे पुलिसवालों को मिलेगा 30 लाख का कवर, हरियाणा सरकार बड़ा फैसला!      

आपकी पार्टनर के भी हैं ऐसे स्तन तो देगी पूरा साथ

आपकी पार्टनर के भी हैं ऐसे स्तन तो देगी पूरा साथ

अक्सर जब लड़के किसी लड़की या महिला को देखते हैं तो सबसे पहले उनका ध्यान महिलाओं के ब्रैस्ट पर जाता है और जिनके बड़े स्तन होते हैं उन्हें वो हॉट समझते हैं और ये मानते हैं कि इसी तरह की महिलाएं सेक्स में आनंद देती हैं। लेकिन एक्सपर्ट्स का कहना कुछ और ही है। उनका मानना है कि छोटे ब्रैस्ट वाली महिलाएं बड़े ब्रैस्ट वाली महिलाओं से ज्यादा उत्तेजक होती हैं।

क्या कहते है एक्सपर्ट:

इस पर एक्सपर्ट्स का कहना है कि ब्रैस्ट का छोटा या बड़ा होना उनके जन्म से ही निर्भर करता है और ये नेचर की देन है। ऐसे में कई बार महिलाएं सर्जरी करवा कर अपने छोटे ब्रैस्ट को बड़ा करवा लेती है जबकि नेचरल ब्रैस्ट ही पुरुषों को ज्यादा आकर्षित करते हैं।


कुछ महिलाओं का ये कहना है कि उनके पार्टनर छोटे ब्रैस्ट होने के कारण उन्हें ज्यादा अहमियत नहीं देते, जबकि छोटी ब्रेस्ट वाली महिलाएं ज्यादा जल्दी उत्तेजित होती हैं और सहवास को एंजॉय करती हैं। छोटे हिस्से में ही ज्यादा नर्व्स आने की वजह से कम स्पर्श में भी उत्तेजना बढ़ जाती है।


लॉकडाउन में औनलाइन सुनें संकटमोचन संगीत समारोह

लॉकडाउन में औनलाइन सुनें संकटमोचन संगीत समारोह

हनुमान जन्मोत्सव २०२० (Hanuman Janmotsav 2020): आज हनुमान जयंती है लेकिन कोरोना वाराणसी वायरस के वजह से लगे लॉकडाउन के चलते सारे धार्मिक प्रोग्राम व आयोजन रद्द कर दिए आगये हैं। हनुमान जयंती पर हर वर्ष वाराणसी का मशहूर संकटमोचन संगीत समारोह आयोजित होता है। लेकिन इस वर्ष लॉकडाउन के कारण आप घर बैठे ही औनलाइन माध्यम के जरिये संकटमोचन संगीत समारोह का आनंद ले सकेंगे। मशहूर संगीतकार वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये हनुमान जी के भजन पेश करेंगे।

कार्यक्रम में ये कलाकार देंगे औनलाइन प्रस्तुति:
पंडित जसराज अमेरिका से ही संगीत समारोह में शामिल होंगे, इसके अतिरिक्त गायन में प। राजन-साजन मिश्र, पं। अजय पोहनकर, पं। अजय चक्रवर्ती, उस्ताद राशिद खां, अरमान खां, सुश्री कौशिकी चक्रवर्ती, पं। उल्लास कसालकर , वादन में श्री यूं राजेश-शिवमणि, पं। विश्वजीत राय चौधरी, पं। निलाद्री कुमार, श्री शाकिर खां, उस्ताद मोईनुद्दीन खा-मोमिन खां, पं। भजन सोपोरी-अभय सोपोरी अपनी प्रस्तुति देंगे। नृत्य में पं। राममोहन महराज, पं। कृष्णमोहन महराज के अतिरिक्त तबला पर पं। कुमार बोस, पं। सुरेश तलवलकर, पं। अनिंदों चटर्जी-अनुब्रत चटर्जी, पं। समर साहा, पं। संजू सहाय व उस्ताद अकरम खां-जरगाम खां भी अपनी प्रस्तुति पेश करेंगे।

संकटमोचन मंदिर कॉन्फ्रेंसिंग के अन्य डिजिटल प्लेटफार्म पर प्रसारित करेगा, ताकि हनुमान जी के भक्त व संगीतप्रेमी लाखों लोगों तक यह पहुंच सके। इस बार का आयोजन 12 से 17 अप्रैल तक छह दिवसीय होगा।

सुबह 6 बजे से हनुमान जी का पूजन-अर्चन व बैठकी की झांकी होगी। प्रातः काल 7 बजे से रामायण का पूजन-अर्चन व मानस का एकाह पाठ, रामार्चा पूजन आदि धार्मिक अनुष्ठान पहले की होगी। 9 से 11 अप्रैल तक प्रतिदिन पारंपरिक रूप से रामायण सम्मेलन होगा। मंदिर में ही व्यास जी रामचरित मानस का कथा हनुमान जी को सुनाएंगे। लॉकडाउन चलते यह प्रक्रिया मंदिर के अंदर मंदिर के पुजारी ही करेंगे।

महंत जी ने लोगों से बोला है कि लॉकडाउन का पालन करें व घर पर ही हनुमान जयंती मनाएं व अपनी श्रद्धा और भक्ति घर से ही अर्पित करें। हनुमान जी से कामना करें कि दुनिया इस संकट से जल्द उबरे। उन्होंने बोला कि गोस्वामी तुलसीदास महाराज ने हनुमान जी का नाम संकटमोचन रखा व वह उन्हें सीता माता का वरदान भी प्राप्त है। बजरंगबली इस संकट को काटने में सक्षम हैं। बस उनको बार-बार इस बात की याद दिलानी होती है।