अखिलेश यादव ने कहा कि बंदरबांट में उलझी बीजेपी सरकार से जनता को कोई आशा नहीं

अखिलेश यादव ने कहा कि बंदरबांट में उलझी बीजेपी सरकार से जनता को कोई आशा नहीं

Angry Akhilesh Yadav समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने बीजेपी सरकार पर निशाना साधते हुए कहाकि, इधर बेकारी-बेरोज़गारी रिकार्ड तोड़ रही है, उधर महंगाई कमर तोड़ रही है. न मनरेगा में कार्य है, न स्किल मैपिंग का कहीं अता-पता है और न ही इंवेस्टमेंट मीट के निवेश का. व्यापार, कारोबार, दुकानदारी, कारीगरी सब ठप्प है. बंदरबाँट में उलझी बीजेपी सरकार से जनता को कोई आशा भी नहीं है.

सियासी संक्रमण से भी जूझ रहा उत्तर प्रदेश :- समाजवादी पार्टी सुप्रीमो अखिलेश यादव ने कहाकि, उत्तर प्रदेश कोविड-19 संक्रमण के साथ सियासी संक्रमण से भी जूझ रहा है. बीजेपी सरकार के अब कुछ ही दिन बचे हैं. ऐसे में सीएम का नियंत्रण भी ढीला पड़ता जा रहा है. जिस तरह दिल्ली-लखनऊ के बीच विवाद के इशारा हैं, उससे लगता है कि जो दिख रहा है वह अगले संकट का इशारा हैं. अखिलेश ने बोला कि सरकार असफल है और सीएम निष्क्रिय, फिर भी दिल्ली की दौड़ किसलिए हो रही है.


टीकाकरण की गति धीमी :- अखिलेश यादव ने कहाकि, जानकार बता रहे हैं कि तीसरी लहर भी आने वाली है. बच्चों के स्वास्थ्य को लेकर चिंताएं जताई जा रही हैं. टीकाकरण की गति धीमी है. प्रदेश में सभी को मुफ्त टीका लगाने का प्रचार तो जोरशोर से किया गया है, लेकिन आनलाइन-आफलाइन के झमेले में गांव वाला परेशान है.


पेगासस मामले में अगले हफ्ते सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई

पेगासस मामले में अगले हफ्ते सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई

पेगासस जासूसी कांड (Jasoosi Case) देश में तूल पकड़ता जा रहा है। इसे लेकर विपक्षी दल केंद्र की मोदी सरकार पर लगातार हमलावर हैं और सदन में भी इस मुद्दे को लेकर लगातार सरकार को घेर रही हैं। इस मामले को लेकर पूरा विपक्ष एकजुट हो गया है और मामले में जांच कराने की मांग कर रहा है। इस बीच अब यह मामला सुप्रीम कोर्ट तक जा पहुंचा है। सुप्रीम कोर्ट में पेगासस जासूसी मामले को लेकर अगले हफ्ते सुनवाई होगी।

दरअसल, आज यानी शुक्रवार को वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने चीफ जस्टिस एनवी. रमना की बेंच के सामने इस मामले को उठाया, जिस पर फ जस्टिस ने कहा कि अगले हफ्ते वो इस मामले की सुनवाई करेंगे। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका में अपील की गई है कि सुप्रीम कोर्ट के जज की अगुवाई में पेगासस मामले की निष्पक्ष जांच की जाए। (कॉन्सेप्ट फोटो साभार- सोशल मीडिया) पेगासस मामला क्या है? दरअसल, बीते दिनों अंतरराष्ट्रीय मीडिया ने खुलासा किया था कि भारत सरकार ने इजरायली सॉफ्टवेयर पेगासस से कई लोगों के फोन को हैक किया है। इनमें राहुल गांधी, प्रशांत किशोर समेत कई नेता, कुछ केंद्रीय मंत्री, पत्रकार और अन्य लोगों का नाम शामिल था।

वहीं, विपक्ष अब इस मसले को लेकर संसद में रोज हंगामा कर रहा है। विपक्ष की मांग है कि इस विषय पर चर्चा की जाए, जबकि सरकार ने इन आरोपों को पूरी तरह से नकार दिया है क्या है पेगासस स्पाइवेयर (Pegasus spyware)? पेगासस स्पाइवेयर (Pegasus spyware) इजरायली साइबर इंटेलिजेंस फर्म NSO ग्रुप द्वारा बनाया गया है, जो निगरानी रखने का काम करता है। पेगासस एक ऐसा सॉफ्टवेयर है जो बिना आप की अनुमति के आपके फ़ोन में घुस जाता है, ये आपके व्यक्तिगत और संवेदनशील जानकारी इकट्ठा कर जासूसी करने वाले यूज़र को देने के लिए बनाया गया है। यही आरोप मोदी सरकार पर लगा है कि वह राहुल गांधी समेत तमाम विपक्ष के नेताओं, मीडिया कर्मियों और जानी-मानी हस्तियों की जासूसी कराई है।