CM बनने के बाद पहली बार अपने गांव पहुंचे एकनाथ शिंदे

CM बनने के बाद पहली बार अपने गांव पहुंचे एकनाथ शिंदे

अपनी पार्टी से बगावत कर सीएम बनने के बाद एकनाथ शिंदे ने पहली बार सतारा जिले के अपने गांव डेयर का दौरा किया इस दौरान गांव के लोगों ने उनका जोरदार स्वागत किया लोगों का उत्साह देखकर शिंदे ने बोला कि बतौर सीएम मैं पहली बार अपने पैतृक गांव आया हूं गांव के लोगों द्वारा मुझ पर बरसाए गए स्नेह से अभिभूत हूं पश्चिमी महाराष्ट्र क्षेत्र में पर्यटन की संभावनाओं पर बात करते हुए उन्होंने बोला कि पश्चिमी महाराष्ट्र क्षेत्र में पर्यटन की बड़ी संभावनाएं हैं और राज्य गवर्नमेंट इस क्षेत्र में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए कदम उठाएगी

विभागों के आवंटन के बारे में पूछे जाने पर शिंदे ने बोला कि विभागों का आवंटन जल्द होगा उन्होंने बोला कि पहले प्रश्न पूछा जाता था कि कैबिनेट विस्तार कब होगा अब पूछा जाने लगा है कि विभागों का आवंटन कब होगा जैसे कैबिनेट विस्तार हुआ, विभागों का आवंटन भी जल्द होगा मालूम हो कि महाराष्ट्र में लंबे समय से शिंदे कैबिनेट के विस्तार का इन्तजार था बीते मंगलवार को सीएम पद की शपथ लेने के 41 दिन बाद एकनाथ शिंदे ने अपने दो सदस्यीय मंत्रिमंडल का विस्तार किया मंत्रिमंडल में शिवसेना के बागी गुट और बीजेपी के नौ-नौ सदस्यों को स्थान दी गई

गौरतलब है कि मंत्रिमंडल में किसी भी स्त्री नेता को शामिल नहीं किया गया है शिंदे गवर्नमेंट को इस कारण नेताओं और स्त्री अधिकार कार्यकर्ताओं की आलोचना झेलनी पड़ रही है राज्य में बीजेपी की 12 स्त्री विधायक हैं शिंदे गुट में दो स्त्री विधायक हैं, साथ ही उन्हें एक निर्दलीय स्त्री विधायक का समर्थन भी हासिल है वर्तमान में महाराष्ट्र में कुल 28 स्त्री विधायक हैं

मंत्रिमंडल में किसी भी स्त्री को शामिल नहीं किए जाने पर हो रही आलोचना के बाद डिप्टी मुख्यमंत्री देंवेद्र फडणवीस ने आश्वासन दिया था कि राज्य मंत्रिमंडल में स्त्रियों को उचित अगुवाई मिलेगा महा विकास अघाड़ी (एमवीए) गवर्नमेंट में शिवसेना के वरिष्ठ मंत्री रहे एकनाथ शिंदे ने जून में पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे के विरूद्ध विद्रोह कर दिया था और पार्टी को विभाजित करके ठाकरे के नेतृत्व वाली गवर्नमेंट को गिरा दिया था