PM मोदी ने वाराणसी बीजेपी जिलाध्यक्ष को किया फोन, कहा...

PM मोदी ने वाराणसी बीजेपी जिलाध्यक्ष को किया फोन, कहा...

वाराणसी: पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने वाराणसी (Varanasi) के बीजेपी जिला अध्यक्ष हंसराज विश्वकर्मा को फोन करके पहले उनका व उनके सारे परिवार का हालचाल पूछा। इसके बाद कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण को लेकर काशी (Kashi) के जनता के बारे में विधिवत जानकारी ली। जिलाअध्यक्ष हंसराज विश्वकर्मा ने मास्क के विषय में बोला तो पीएम ने बोला कि मास्क केवल डॉक्टरों तथा ड्यूटी पर लगे कर्मचारियों के लिए सुविधाजनक है बाकी गांवो में तो आप लोग अपने सर पर गमछा बांधते हैं या तौलिया रखते हैं उसी से मुंह ढकने की आदत डालने के बारे में लोगों को जागरूक करें।

पीएम ने बोला कि आरोग्य सेतु ऐप (Arogya Setu App) को सभी डाउनलोड करें एक भी आदमी छूटना नहीं चाहिए।

मोदी ने पूछा कि क्षेत्र के लोगों की क्या भावना है। इस पर हंसराज विश्वकर्मा ने बोला कि जनता आप के निर्देशों का पालन सत फीसदी कर रही है। आदेश आते ही जनता उसके पालन की तैयारी प्रारम्भ कर देती है। पीएम ने बोला कि बहुत जल्दी सब अच्छा हो जाएगा ऐसी कामना है।

राज्य में 410 लोग संक्रमित

गौरतलब है कि यूपी (Uttar Pradesh) में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या गुरुवार को बढ़कर 410 हो गई है। प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने गुरुवार को यहां संवाददाताओं को बताया, "बुधवार को मरीजों की संख्या 361 थी जो आज बढ़कर 410 हो गई। ये सभी संक्रमित मरीज 40 जिलों के हैं। " उन्होंने बताया, "कुल संक्रमितों में से तबलीगी जमात के सदस्यों की संख्या 225 है। अब तक 31 लोग उपचारित होकर जा चुके हैं। "

प्रसाद ने बताया, "राज्य में कोरोना वायरस की वजह से अब तक चार मौतें हुई हैं। ये मौतें मेरठ, बस्ती, वाराणसी व आगरा जिलों में हुई है। " उन्होंने बताया, "राज्य में महामारी रोग अधिनियम लागू है। ऐसे में मास्क को पहनना जरूरी है। अगर विशेष हालात में कोई घर से बाहर निकलता है तो उसको मास्क पहनना महत्वपूर्ण है। अगर कोई इसका कोई उल्लंघन करता है तो उसके विरूद्ध कार्रवाई की जाएगी"

आगरा में 19 नए केस
सरकार की ओर से गुरुवार शाम को जारी बुलेटिन के मुताबिक आगरा से 19 नये मुद्दे सामने आए हैं जिससे जिले में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 83 हो चुकी है। इनमें 43 तबलीगी जमात के मेम्बर हैं।

बुलेटिन में बताया गया कि गौतमबुद्ध नगर में 63, मेरठ में 38, लखनऊ में 29, गाजियाबाद में 25, सहारनपुर में 20, शामली में 17, फिरोजाबाद में 11, सीतापुर में 10, कानपुर व वाराणसी में नौ-नौ, बुलंदशहर व बस्ती में आठ-आठ, महाराजगंज, प्रतापगढ़ बरेली में छह-छह, गाजीपुर, रामपुर, बागपत में पांच-पांच, आजमगढ़, हाथरस, मुजफ्फरनगर, जौनपुर, लखीमपुर खीरी में चार-चार, हापुड़ में तीन, पीलीभीत, बांदा, मिर्जापुर, रायबरेली, औरैया, कौशांबी, मथुरा, अमरोहा हरदोई में दो-दो, मुरादाबाद, शाहजहांपुर, बाराबंकी, बिजनौर, प्रयागराज, बदायूं से एक-एक मुद्दा सामने आया है।

प्रसाद ने बताया, "छोटे शहरों में जहां बड़े अस्पताल नहीं हैं, वहां व्यक्तिगत अस्पतालों को अधिसूचित किया गया है जो कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों का उपचार करेंगे। "