यूपी लोक सेवा आयोग की सीधी भर्ती में होने जा रहा बड़ा परिवर्तन

यूपी लोक सेवा आयोग की सीधी भर्ती में  होने जा रहा बड़ा परिवर्तन

UPPSC Recruitment: यूपी लोक सेवा आयोग की सीधी भर्ती में बड़ा परिवर्तन होने जा रहा है. अब सीधी भर्ती के जिन पदों के लिए स्क्रीनिंग परीक्षा कराई जाएगी उनमें आखिरी मेरिट लिखित परीक्षा और साक्षात्कार के अंकों को जोड़कर तैयार होगी. अब तक चयन केवल साक्षात्कार के नंबरों के आधार पर ही होता है. स्क्रीनिंग परीक्षा केवल अभ्यर्थियों की भीड़ कम करने के लिए होती है.

सूत्रों के मुताबिक इस संबंध में शासन को प्रस्ताव भेजा गया है. इसकी सारी औपचारिकताएं पूरी हो गई हैं और किसी भी समय सीएम की स्वीकृति मिल सकती है. आयोग के अध्यक्ष संजय श्रीनेत का बोलना है कि शासन से स्वीकृति मिलने के तुरन्त बाद स्क्रीनिंग परीक्षा के अंकों को आखिरी चयन में जोड़ने की प्रबंध लागू कर दी जाएगी. आयोग ने अगस्त 2018 में हुई बैठक में ही निर्णय लिया था, लेकिन प्रस्ताव शासन में लंबित रहा. अब आयोग ने नये सिरे से नियमावली में परिवर्तन की अपनी संस्तुति भेजी है. यह परिवर्तन संघ लोक सेवा आयोग की तर्ज पर किया जा रहा है. सीधी भर्ती की प्रबंध जानने के लिए यूपीपीएससी की कमेटी संघ लोक सेवा आयोग भेजी गई थी. उसी कमेटी की रिपोर्ट के आधार पर यह फैसला लिया गया है.

स्क्रीनिंग और साक्षात्कार के 50-50% अंक जोड़ सकते हैं
आयोग की ओर से शासन को भेजे गए प्रस्ताव में स्क्रीनिंग परीक्षा और साक्षात्कार के अंकों को कितना अधिभार (वेटेज) दिया जाएगा यह साफ नहीं है. हालांकि चार वर्ष पहले जो प्रस्ताव भेजा गया था उसमें स्क्रीनिंग परीक्षा और साक्षात्कार में अभ्यर्थियों को मिले 50-50 फीसदी अंकों को जोड़कर मेरिट तैयार करने की बात थी. ऐसे में बताया जा रहा है कि वही प्रस्ताव इस बार भी भेजा गया है.

ज्यादा पद होने पर कराते हैं स्क्रीनिंग परीक्षा
सीधी भर्ती वह होती है जिसमें चयन इंटरव्यू के आधार पर किया जाता है. हालांकि सीधी भर्ती के जिन पदों के लिए आयोग को अधिक आवेदन मिलते हैं, उसके लिए स्क्रीनिंग परीक्षा कराई जाती है, ताकि परीक्षा के आधार पर अभ्यर्थियों की संख्या कम हो जाए फिर इंटरव्यू सरलता से समापन कराए जा सके. स्क्रीनिंग परीक्षा की ऊपर की मेरिट से अभ्यर्थियों को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है.