तकिया मजार के उर्स में दिखेगी गंगा-जमुनी तहजीब

तकिया मजार के उर्स में दिखेगी गंगा-जमुनी तहजीब

नवाबगंज स्थित हजरत दाता मदारा शाह (तकिया मजार) के सालाना उर्स का आयोजन 8 से 10 दिसंबर तक होने जा रहा है उर्स के 365वें संस्करण में इस बार तीन दिन पहले यानी 6 दिसंबर से ही मेला प्रारम्भ हो जाएगा इसकी तैयारी आखिरी चरण में है उर्स को लेकर मजार को अभी से सजा दिया गया है विद्युत लाइट की साज सज्जा से यह रात भर दूधिया रोशनी से जगमज कर रहा है इस सालाना उर्स में मुसलमान समुदाय के साथ-साथ भारी संख्या में हिंदू, सिख और इसाई धर्म के लोग भी चादर चढ़ाने पहुंचते हैं इस दौरान होने वाली कव्वाली आकर्षण का केंद्र होती है

सालाना उर्स में इस बार खास तौर पर रांची, धनबाद और जौनपुर से कव्वाल बुलाए गए हैं इसके अतिरिक्त तकिया मजार शरीफ परिसर में भव्य मेला का आयोजन किया जा रहा है इसमें झारखंड के अतिरिक्त बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश सहित अन्य राज्यों से व्यापारी और दुकानदार पहुंचते हैं इनके पास मुसलमान धर्म से जुड़े सभी प्रकार के धार्मिक ग्रंथ और पुस्तकें मौजूद होती हैं मेले में इसके अतिरिक्त बर्तन, चित्र, नकाब, इत्र, सिंगार और खाने-पीने के स्टॉल लगाए जाते है

चारदपोशी से पूरी होती हैं मुरादें

तकिया मजार कमेटी के सदस्य संजर मल्लिक ने न्यूज़18 लोकल को बताया हर वर्ष की तरह इस बार भी उर्स में कव्वाली का आयोजन होगा धार्मिक आस्था से जुड़े सालाना उर्स में लोगों को प्रसाद के रूप में सिरनी और हलवा, पूड़ी दिया जाएगा यूपी और बिहार के प्रसिद्ध व्यंजनों से मजार शरीफ में फातिहा होगा इसके बाद सभी लोगों को प्रसाद का वितरण किया जाएगा फातिहा के बाद लोग चादरपोशी करेंगे मल्लिक के अनुसार यहां सभी धर्मों के लोग आते हैं और मान्यता है कि यहां चारदपोशी से मनोकामनाएं पूरी होती हैं