प्रियंका गांधी ने कहा कि महंगाई आम जनमानस की तोड़ रही है कमर

प्रियंका गांधी ने कहा कि महंगाई आम जनमानस की तोड़ रही है कमर

Priyanka Gandhi Modi Attack नेशनल कांग्रेस पार्टी पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने बीजेपी की केन्द्र सरकार पर हमला करते हुए कहाकि, देश मे महंगाई अनियंत्रित होकर आम जनमानस की कमर तोड़ रही है. कोविड-19 संकटकाल मे जब मौतों से हर तरफ हाहाकार मचा उसी समय बेरोजगारी और महंगाई ने देश को जकड़ लिया और केन्द्र सरकार हाथ पर हाथ रखकर जनता से केवल कर वसूली कर रही है. कोविड-19 संकट और महंगाई से कराह रहे देश को पीएम नरेंद्र मोदी ने कोविड-19 महामारी के दौरान जनता को बेसहारा छोड़ दिया और किसी तरह की राहत देने से परहेज कर रहे है.

पेट्रोल-डीजल पर 2.74 लाख करोड़ कर वसूले :- प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहाकि, पेट्रोल, डीजल, सरसों का तेल, अरहर दाल सहित आवश्यक वस्तुओं के दाम बेतहासा बढ़ते जा रहे है, उसको नियंत्रित करने की पहल सरकार ने न करते हुए बल्कि आवश्यक कंज़्यूमर वस्तुओं की जमाखोरी और कालाबाजारी को कानूनी दर्जा देकर सब कुछ मार्केट के हवाले कर देने से स्थितियां लगातार विकराल हो चुकी है. सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर 2.74 लाख करोड़ कर वसूल लिया बीजेपी की नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने जनकल्याण का संवैधानिक मार्ग त्यागकर केवल और केवल जनता पर वजनदार कर लगाकर प्रताड़ित कर रही है.

वसूले गए भारी कर से जनता को क्या मिला? :- प्रियंका गांधी ने सरकार पर बरसते हुए कहाकि, पीएम मोदी लगातार देश को भ्रमित करने और अपनी निजी छवि को बनाने के लिये सरकारी धन का अपव्यय कर रहे है. सरकार में इच्छाशक्ति शून्य है पीएम से प्रश्न पूछते हुए बोला कि पेट्रोल डीजल से वसूले गए भारी कर से जनता को क्या मिला? यदि सरकार में संकट के भीषण काल मे मानवीय संवेदना होती तो जनता को संकट से उबारने के लिए वसूले गए कर से देश के लिये 67000 करोड़ वैक्सीन डोज, देश के समस्त जिलों में ऑक्सीजन प्लांट, 29 राज्यों में एम्स हॉस्पिटल बनाने के साथ-साथ देश के 25 करोड़ गरीबो को एक मुस्त 6000 रुपए की सहायता कर संकटकाल में बड़ी राहत दे सकती थी.


पेगासस मामले में अगले हफ्ते सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई

पेगासस मामले में अगले हफ्ते सुप्रीम कोर्ट में होगी सुनवाई

पेगासस जासूसी कांड (Jasoosi Case) देश में तूल पकड़ता जा रहा है। इसे लेकर विपक्षी दल केंद्र की मोदी सरकार पर लगातार हमलावर हैं और सदन में भी इस मुद्दे को लेकर लगातार सरकार को घेर रही हैं। इस मामले को लेकर पूरा विपक्ष एकजुट हो गया है और मामले में जांच कराने की मांग कर रहा है। इस बीच अब यह मामला सुप्रीम कोर्ट तक जा पहुंचा है। सुप्रीम कोर्ट में पेगासस जासूसी मामले को लेकर अगले हफ्ते सुनवाई होगी।

दरअसल, आज यानी शुक्रवार को वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल ने चीफ जस्टिस एनवी. रमना की बेंच के सामने इस मामले को उठाया, जिस पर फ जस्टिस ने कहा कि अगले हफ्ते वो इस मामले की सुनवाई करेंगे। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका में अपील की गई है कि सुप्रीम कोर्ट के जज की अगुवाई में पेगासस मामले की निष्पक्ष जांच की जाए। (कॉन्सेप्ट फोटो साभार- सोशल मीडिया) पेगासस मामला क्या है? दरअसल, बीते दिनों अंतरराष्ट्रीय मीडिया ने खुलासा किया था कि भारत सरकार ने इजरायली सॉफ्टवेयर पेगासस से कई लोगों के फोन को हैक किया है। इनमें राहुल गांधी, प्रशांत किशोर समेत कई नेता, कुछ केंद्रीय मंत्री, पत्रकार और अन्य लोगों का नाम शामिल था।

वहीं, विपक्ष अब इस मसले को लेकर संसद में रोज हंगामा कर रहा है। विपक्ष की मांग है कि इस विषय पर चर्चा की जाए, जबकि सरकार ने इन आरोपों को पूरी तरह से नकार दिया है क्या है पेगासस स्पाइवेयर (Pegasus spyware)? पेगासस स्पाइवेयर (Pegasus spyware) इजरायली साइबर इंटेलिजेंस फर्म NSO ग्रुप द्वारा बनाया गया है, जो निगरानी रखने का काम करता है। पेगासस एक ऐसा सॉफ्टवेयर है जो बिना आप की अनुमति के आपके फ़ोन में घुस जाता है, ये आपके व्यक्तिगत और संवेदनशील जानकारी इकट्ठा कर जासूसी करने वाले यूज़र को देने के लिए बनाया गया है। यही आरोप मोदी सरकार पर लगा है कि वह राहुल गांधी समेत तमाम विपक्ष के नेताओं, मीडिया कर्मियों और जानी-मानी हस्तियों की जासूसी कराई है।