चीन ने बच्चों में औनलाइन गेमिंग की लत छुड़ाने के लिए किया ये काम

चीन ने बच्चों में औनलाइन गेमिंग की लत छुड़ाने के लिए किया ये काम

औनलाइन गेमिंग (Online Gaming) व इंटरनेट (Internet Games) की बढ़ती लत (Addiction) से परेशान चीन ने नया कानून लागू (New Rule in China) किया है। इसके तहत अब चाइना में 16 वर्ष से कम आयु के बच्चे दिन में 90 मिनट यानी डेढ़ घंटे से ज्यादा औनलाइन वीडियो गेम (Online Video Games) नहीं खेल सकते। बच्चों के लिए यह 90 मिनट प्रयोग करने का समय भी प्रातः काल 8 से रात 10 बजे तक निश्चित किया गया है। रात 10 बजे के बाद व प्रातः काल 8 बजे के पहले औनलाइन वीडियो गेम (Online Video Games) खेलने पर पूरी तरह प्रतिबंध (Online Video Games Banned in China)रहेगा। यह नियम इसी सप्ताह लागू कर दिया गया है।

चाइना संसार के सबसे बड़े औनलाइन गेमिंग बाजारों (Online Games Market) मे से एक है। चीनी अधिकारियों के मुताबिक औनलाइन गेमिंग पर (Side Effects of Online Gaming) बच्चों के खर्च की भी राशनिंग की गई है। 16 वर्ष से कम आयु के बच्चों को हर महीने 29 डॉलर यानी 2030 रुपए तक ही ऑानलाइन गेमिंग पर खर्च कर सकते हैं। जबकि 16 से 18 आयुवर्ग के किशोरों के लिए यह राशि हर महीने 4060 रुपए के बराबर तय की गई है।

नए कानून के मुताबिक बच्चों को औनलाइन गेमिंग के लिए अपने वास्तविक नाम से रजिस्ट्रेशन कराना होगा। बच्चों को चीनी सोशल मीडिया वीचैट पर अपने एकाउंट , फोन नंबर व पहचान लेटर की पूरी जानकारी दर्ज करनी होगी। यही नहीं सरकार ने औनलाइन गेमिंग कंपनियों को भी अपने गेम कंटेंट व नियमों में सुधार करने के आदेश जारी किए हैं।

अधिकारियों का दावा है कि औनलाइन गेमिंग की लत बच्चों के स्वास्थ पर सीधा प्रभाव ढाल रही है। इससे बच्चों की पास की नजर लगातार निर्बल होती जा रही है। वीडियो गेम्स का नौजवानों पर पड़ने वाले प्रभाव को लेकर चाइना लगातार इसका विरोध करता रहा है। 2018 में चाइना सरकार ने गेमिंग रेगुलेटर का गठन किया था। इसी रेगुलेटर की अनुशंसा पर बच्चों के खेल के समय व आयु संबंधी पाबंदियां लगाई गईं हैं।

औनलाइन गेमिंग के मार्केट में चाइना संसार का दूसरा सबसे बड़ा बाजार है। रिसर्च एजेंसी न्यूज़ू के अनुसार औनलाइन गेमिंग उद्योग में अमेरिका ने कमाई के मुद्दे में चाइना को पछाड़ दिया है।