मूड स्विंग को कहें बाय-बाय, इन टिप्स से मिलेगा मूड-स्विंग से छुटकारा

मूड स्विंग को कहें बाय-बाय, इन टिप्स से मिलेगा मूड-स्विंग से छुटकारा

आपका मूड बिना बात के यूं ही बेकार नहीं होता. इसके लिए हार्मोन्स जिम्मेदार हैं. कैसे पीरियड के दौरान अकसर होने वाले मूड-स्विंग से पाएं छुटकारा, बता रही हैं |

अच्छा-भला मूड था. आप ठहाके लगा रही थीं. आकस्मित से न जाने क्या हुआ कि मन उदास-सा हो गया. चेहरे पर नकली मुस्कान लाना भी मैराथन दौड़ने जितना कठिन कार्य लगने लगा. घबराइए नहीं, ऐसा सिर्फ आपके साथ नहीं हो रहा. यह मूड स्विंग है, जो खासतौर से पीरियड से पहले या पीरियड के दौरान स्त्रियों पर धावा बोलता है. बाहरी तौर पर पीरियड के भले ही एकाध लक्षण नजर आ रहे हों, पर शरीर के भीतर इस वक्त हार्मोन भयानक उथल-पुथल मचा रहे होते हैं. इसी उथल-पुथल का नतीजा होता है, मूड स्विंग. इस मूड स्विंग को आम सी बात मानकर अनदेखा करने से बेहतर है कि इसे दूर करने के तरीका तलाशे जाएं. इसका लाभ सिर्फ आपको ही नहीं, बल्कि आपके आसपास के लोगों को भी मिलेगा. इस तथ्य को स्वीकारें कि बेकार मूड से सिर्फ आपका ही दिन बेकार नहीं हो रहा. इसका प्रभाव घरवालों और सहकर्मियों पर भी पड़ रहा है. पीरियड से एक हफ्ते पहले व पीरियड के दौरान अपने स्वभाव पर गौर करें. अगर नियमित रूप से इस दौरान बात-बात पर आपका मूड बेकार हो रहा है तो अपनी जीवनशैली में कुछ छोटे-मोटे परिवर्तन लाएं. यकीन मानिए, जिंदगी में हर माह आने वाले इस स्पीड ब्रेकर से आप सरलता से उबर जाएंगी.

मनपसंद नहीं, स्वास्थ्य वर्धक खाना खाएं
हमारे खानपान का सीधा प्रभाव हमारे मूड पर पड़ता है. अपनी डाइट में कम शुगर और कम कार्बोहाइड्रेट वाले खाद्य पदार्थों को शामिल करें. मनपसंद तली-भुनी डिश खाने की स्वास्थ्य वर्धक चीजों को अपनी डाइट का भाग बनाएं. मैग्नीशियम युक्त खाद्य पदार्थों की मात्रा अपनी डाइट में बढ़ाएं. केला खाएं. इसमें मैग्नीशियम प्रचुर मात्रा में होता है व यह सरलता से उपलब्ध भी होता है. यह न सिर्फ आपके मूड को अच्छा करेगा, बल्कि महत्वपूर्ण ऊर्जा भी प्रदान करेगा. दिन भर में तीन बार खाना खाने की स्थान छह बार कम-कम मात्रा में खाना खाएं. इससे शरीर में शुगर का स्तर नियंत्रित रहेगा.

एक्सरसाइज की न करें अनदेखी
पीरियड के दौरान शरीर में होने वाला दर्द, बेकार मूड आदि साथ मिलकर व्यायाम नहीं करने के आपके सामने बहानों की लंबी फेहरिस्त बना देते होंगे. पर यकीन मानिए मूड को अच्छा करने के लिए व्यायाम से
अच्छा तरीका कोई व नहीं है. व्यायाम करने से न सिर्फ मांसपेशियों में होने वाली अकड़न समाप्त होगी, बल्कि शरीर में एंडोर्फिन हार्मोन का स्राव भी बढ़ेगा. मूड को अच्छा करने के अतिरिक्त यह हार्मोन अच्छी नींद आने में भी मददगार साबित होता है.

पानी से बढ़ाएं दोस्ती
पानी सिर्फ प्यास ही नहीं बुझाता है, बल्कि यह मन को शांत रखने में भी मदद करता है. यह न सिर्फ शरीर को बाहर से साफ करता है, बल्कि मन को भी रिफ्रेश कर देता है. अगर मूड बेहद बेकार हो रहा है तो ठंडे या गुनगुने पानी से कुछ देर नहाएं. न सिर्फ मूड बेहतर हो जाएगा, बल्कि पीरियड के कारण शरीर में होने वाले दर्द से भी राहत मिलेगी. अगर आपको तैराकी का शौक है तो तैराकी करें. व्यायाम भी हो जाएगा व मूड भी सुधर जाएगा. अगर इतनी मेहनत करने का मन नहीं है तो एक गिलास पानी में थोड़ा-सा नीबू का रस डालें. धीरे-धीरे पिएं. मन शांत होगा व शरीर को ऊर्जा मिलेगी.

थोड़ा डांस हो जाए
मूड अच्छा करने के लिए व्यायाम से बेहतर कुछ व नहीं. पर बेकार मूड में खुद को जिम या पार्क तक ले जाना सरल कार्य नहीं. ऐसे में आप व्यायाम की स्थान डांस का सहारा ले सकती हैं. इसके लिए आपको किसी डांस फॉर्म में विशेषज्ञता हासिल करने की आवश्यकता नहीं है. बस अपना पसंदीदा गाना बजाइए व हो जाइए शुरू. शरीर ऊर्जा से भर जाएगा व बेकार मूड झटपट बेहतर हो जाएगा.

खुशबू का असर
तेज परफ्यूम की महक जहां सिर पर तुरंत चढ़ जाती है व सिर दर्द प्रारम्भ हो जाता है, वहीं अच्छी खुशबू वाला परफ्यूम न सिर्फ थकान दूर कर देता है, बल्कि उससे मूड भी बेहतर हो जाता है. लेमनग्रास या फिर ऑरेंज की खुशबू वाला परफ्यूम आपके बेकार मूड को चुटकियों में अच्छा कर देगा.

नकारात्मक लोगों से रहें दूर
मूड अगर बेकार है तो अपनी ओर से भरसक ऐसे लोगों से दूर रहने की प्रयास करें, जो स्वभाव से ही निगेटिव हैं. ऐसे लोग खुद को कभी बदल नहीं पाते. गॉसिपिंग करना व दूसरों की बुराई करना इनका स्वभाव होता है. ऐसे लोगों की वजह से आपका मूड अच्छा होने की स्थान व ज्यादा बेकार ही हो जाएगा. ऐसे लोग और ऐसी हालात से बेकार मूड में दूर ही रहें. ऐसे लोगों के साथ वक्त गुजारें, जो हमेशा आपको खुश देखना चाहते हैं व आपके मूड को अच्छा करने के लिए अपनी ओर से प्रयास में कोई कमी नहीं छोड़ते.