द्रविड़ पर कठोर BCCI इथिक्‍स ऑफिसर, बोले...

द्रविड़ पर कठोर BCCI इथिक्‍स ऑफिसर, बोले...

पूर्व भारतीय क्रिकेट टीम के कप्‍तान राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) को हितों के विवाद का नोटिस भेजे जाने के बाद बीसीसीआई (BCCI) के इथिक्‍स अधिकारी रिटायर्ड जस्टिस डीके जैन (Justice DK Jain) आलोचनाओं का सामना कर रहे हैं। पूर्व कप्‍तान सौरव गांगुली (Saurav Ganguly) वदिग्‍गज स्पिनर हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) ने इस निर्णय की कड़ी आलोचना की थी। लेकिन जस्टिस जैन इस सबसे अविचलित हैं। उनका बोलना है कि वे बीसीसीआई के संविधान में जो नियम दिए गए हैं उनका ही पालन कर रहे हैं।
Image result for द्रविड़ पर कठोर BCCI एथिक्स ऑफिसर, बोले- बहाना नहीं चलेगा
बता दें कि उन्‍होंने मध्‍य प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन के सदस्‍य संजीव गुप्‍ता की शिकायत पर द्रविड़ को नोटिस भेजा था। द्रविड़ पर आरोप है कि वे नेशनल क्रिकेट एकेडमी के निदेशक होने के साथ ही इंडिया सीमेंट्स में उपाध्‍यक्ष भी हैं। इस कंपनी की आईपीएल में चेन्‍नई सुपर किंग्‍स नाम से टीम भी है जिससे हितों का विवाद होता है।

'नौकरी से छुट्टी लेने का मतलब यह नहीं है कि आपके पास वह पोस्‍ट नहीं है'

इस बारे में जस्टिस जैन ने बताया, 'मुझे द्रविड़ के बारे में शिकायत मिली व इसमें आधार था तो मैंने उन्‍हें नोटिस भेजा। मुझे उनके जवाब का इंतजार है। किसी जॉब से छुट्टी लेने का मतलब यह नहीं है कि आपके पास वह पोस्‍ट नहीं है। हितों के विवाद के नियम साफ है व मैं उन्‍हीं का पालन कर रहा हूं। ' बता दें कि द्रविड़ को नोटिस भेजे जाने पर उच्चतम न्यायालय की ओर से नियुक्‍त प्रशासकों की समिति ने सुझाव दिया था कि उन्‍होंने इंडिया सीमेंट से गैरमौजूद रहने की छुट्टी ले रखी है। लेकिन जस्टिस जैन का बोलना है कि द्रविड़ को 14 दिन में जवाब देना होगा।

गांगुली-भज्‍जी ने की थी आलोचना
बीसीसीआई के संविधान में अगस्‍त 2018 में एक व्‍यक्ति एक पद व हितों के विवाद का नियम जोड़ा गया था। लेकिन द्रविड़ को नोटिस भेजे जाने पर बहुत ज्यादा प्रतिक्रियाएं आईं। पूर्व कप्‍तान सौरव गांगुली ने सोशल मीडिया पर लिखा, 'यह भारतीय क्रिकेट का नया फैशन है। भारतीय क्रिकेट को भगवान ही बचाए। ' वहीं हरभजन सिंह ने बोला कि इस तरह के नोटिस भेजकर द्रविड़ जैसे महान व्‍यक्ति का अपमान किया जा रहा है।

गांगुली-लक्ष्‍मण पर जारी हो चुका है आदेश
इससे पहले जैन ने गांगुली, सचिन तेंदुलकर व वीवीएस लक्ष्‍मण को भी हितों के विवाद का नोटिस भेजा था।साथ ही दोनों को एक पद पर रहने का आदेश दिया गया था लेकिन उसकी अभी तक पालना नहीं हो सकी है।गांगुली बंगाल क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष, क्रिकेट कमेंटेटर व आईपीएल में दिल्‍ली कैपिटल्‍स के टीम एडवाइजर भी हैं। वहीं लक्ष्‍मण कमेंटेटर व सनराइजर्स हैदराबाद के मेंटर हैं।