बांदा : नाव पलटने से उसमे सवार 35 लोग डूब गए। जिसमें 17 लोग लापता

बांदा : नाव पलटने से उसमे सवार 35 लोग डूब गए। जिसमें 17 लोग लापता

बांदा में गुरुवार को नाव पलटने से उसमे सवार 35 लोग डूब गए. जिसमें 17 लोग लापता बताए जा रहे हैं. जबकि 15 लोग तैरकर बाहर आ गए. क्षेत्रीय गोताखारों और दमकल ने 3 लोगों के मृत शरीर बरामद किए हैं. रात 8 बजे बचाव कार्य को रोक दिया गया. इसके बाद रात साढ़े 10 बजे SDRF की 11 लोगों और NDRF की 30 लोगों की टीम मौके पर पहुंची. 11 बजकर 10 मिनट पर फिर से सर्च ऑपरेशन प्रारम्भ किया .” एनडीआरएफ के कमांडर नीरज मिश्रा ने यह जानकारी दी. शुक्रवार सुबह सीओ लाइन मौके पर मुद्दे का जायजा लिया.

डीएम ने देर रात तक चलाया अभियान
बांदा में देर रात एनडीआरएफ टीम के साथ रेस्क्यू ऑपरेशन में नदी में उतरे डीएम अनुराग पतले, एएसपी लक्ष्मी निवास मिश्रा,एडीएम सुरभि, रात 1:30 मिनट तक नदी में सर्च ऑपरेशन चलाया. वही मौके पर उपस्थित डीएम अनुराग पटेल ने बताया कि रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है. अभी तक 13 लोगो को रेस्क्यू किया जा चुका है 17 मिसिंग बताया जा रहा है. बीएसए यूनिट एनडीआरएफ एसडीआरएफ कि टीम में मौके पर उपस्थित है इनके साथ लोकल गोताखोर स्टीमर और नाविक भी है जो इनको गाइड करेगे.

वहीं क्षेत्रीय विजय शंकर ने बताया कि हर वर्ष रक्षाबंधन के दिन यमुना नदी के किनारे मेला लगता है. और यमुना नही की पूजा की जाती है.इस मेले को नवी मेला कहते है. जिसमें सभी ग्रामीण शामिल होते हैं.और नाच गाने का कार्यक्रम चलता है. जिसके बाद महिलाएं यमुना नदी में नौनिर्यां की यात्रा करती है. लेकिन आज दोपहर नाव डूब जाने की वजह से मेला का आयोजन नहीं किया गया है.

NDRF और SDRF ने रात में प्रारम्भ किया सर्च ऑपरेशन.

प्रत्यक्षदर्शियों का बोलना है, “10 से अधिक लोगों की मृत्यु हो सकती है. नाव पर 20 लोगों के बैठने की क्षमता थी. जबकि 35 लोगों के अतिरिक्त कुछ मोटरसाइकिल भी लदी थीं.” मौके पर पहुंचे SP अभिनंदन ने बताया, एक पुरुष, एक स्त्री और एक वर्ष के बच्चे का मृत शरीर मिला है.

 

SDRF और NDRF की टीम ने रात में सर्च अभियान चलाया. NDRF की टीम में 30 मेंबर हैं.

बीच धार में पहुंचते ही पलटी नाव

रक्षाबंधन पर समगरा गांव से महिलाएं और अन्य लोग मरका घाट पर पहुंचे थे. यमुना नदी पार करके फतेहपुर जिले के असोथर घाट जाने के लिए नाव पर 35 लोग सवार हुए थे. यमुना नदी में बीच धारा में पहुंचते ही नाव बैलेंस बिगड़ गया और वह पलट गई.

 . अब तक रेस्क्यू अभियान में 3 लोगों के मृत शरीर बरामद किए गए हैं." loading="lazy" class="e86bf44b">

यह फोटो मौके की है. अब तक रेस्क्यू अभियान में 3 लोगों के मृत शरीर बरामद किए गए हैं.

बांस के सहारे आया बाहर

नदी से बचकर आए केपी यादव ने बताया, “मैं लखनऊ से समधरा आया था. समधरा अपनी वाइफ को छोड़कर अपनी बहन के घर राखी बंधवाने जा रहा था. मुझे बरैची जाना था. मैं मोटरसाइकिल से अकेला जा रहा था. मैं नाव पर मोटरसाइकिल के साथ सवार हुआ, मेरी मोटर साइकिल डूब गई.

 

यह फोटो डूबी हुई नाव की है. इसी पर 35 लोग सवार हो जाते थे. इन लोगों के साथ 8 मोटरसाइकिलें भी थी.

यादव ने कहा, “मैं किसी तरह बांस के सहारे बाहर निकल पाया. नाव की पतवार अचानक से टूट गई. तेज बहाव की वजह से नाव असंतुलित हो गई. नाविक संभाल नहीं पाया. उसके बाद नाव पलट गई. कुछ लोग तो बच गए हैं, लेकिन अभी बहुत लोग नहीं बाहर आ पाए हैं.

इनकी हुई मौत

  • फुलवा (45) निवासी सावला डेरा जरौरी जिला फतेहपुर.
  • किशन (1) पुत्र दिनेश यादव, निवासी मर्का.
  • राजरानी (40) निवासी कउहन जिला फतेहपुर.