बरसात के कारण CM योगी का बाराबंकी दौरा रद, सड़क मार्ग से हरदोई गए केशव प्रसाद मौर्य

बरसात के कारण CM योगी का बाराबंकी दौरा रद, सड़क मार्ग से हरदोई गए केशव प्रसाद मौर्य

उत्तर प्रदेश में बीते 12 घंटे से हो रही बरसात के साथ ही खराब मौसम का बड़ा असर हो रहा है। खराब मौसम के कारण सीएम योगी आदित्यनाथ का गुरुवार का बाराबंकी दौरा रद हो गया है। उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को भी खराब मौसम के कारण हरदोई के कार्यक्रम में शामिल होने लखनऊ से सड़क मार्ग से जाना पड़ा है।

सीएम योगी आदित्यनाथ को गुरुवार को बाराबंकी में दो जनसभा को संबोधित करना था। यहां पर लगातार बारिश के कारण उनके कार्यक्रम स्थल राजकीय इंटर कॉलेज के मैदान में काफी पानी भर गया। जिसके कारण यहां पर जगह-जगह होर्डिंग टूटकर गिर गई है। इन अव्यवस्थाओं के चलते कार्यक्रम टाला गया है। लगातार बारिश के कारण हैलिकॉप्टर की लैंडिग में भी परेशानी हो रही थी। जिलाधिकारी डॉ आदर्श सिंह ने बताया कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का गुरुवार का कार्यक्रम तेज बारिश के कारण निरस्त कर दिया गया है। आयोजन स्थल पर पानी भर गया है, जबकि तेज हवा के चलते स्टेज टूट गया है।


बाराबंकी में सदर तथा जैदपुर सीट को विधानसभा चुनाव को 2017 में गंवाने वाली भाजपा के सामने इन दोनों सीट को जीतने का लक्ष्य है। सीएम योगी आदित्यनाथ गुरुवार को यहां के कार्यकर्ताओं में जोश भरने आ रहे थे। जैदपुर के हरख व सदर के जीआइसी आडीटोरियम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को जनसभा करनी थी। इसके साथ ही यहां 286 परियोजनाओं का शिलान्यास व लोकार्पण करना था।

उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य सड़क मार्ग से गए हरदोई


लखनऊ के साथ ही हरदोई तथा पास के जिलों में लगातार खराब मौसम के कारण उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के कार्यक्रम में बदलाव किया गया। वह अब हैलिकॉप्टर के स्थान पर कार से लखनऊ से हरदोई के लिए निकले हैं। खराब मौसम को देखते हुए आज उपमुख्यमंत्री केशव मौर्य के कार्यक्रम में बदलाव किया गया। वह लखनऊ से हरदोई सड़क मार्ग से गए। लखनऊ से कार से रवाना होकर हरदोई में केशव प्रसाद मौर्य करीब 250 करोड़ की कई योजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास करेंगे।


गढ़मुक्तेश्वर मेला को योगी सरकार की अनुमति, कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने के निर्देश

गढ़मुक्तेश्वर मेला को योगी सरकार की अनुमति, कोविड प्रोटोकॉल का पालन करने के निर्देश

उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस पर लगभग अंकुश लगा चुके सीएम योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को कोरोना कर्फ्यू पूरी तरह से हटाने के बाद अब एक कदम और आगे बढ़ा दिया है। खुले मैदान में अब किसी तरह के आयोजन की कोई पाबंदी नहीं है। कार्तिक मास में दीपावली के बाद गढ़मुक्तेश्वर में करीब 15 दिन तक मेला लगता है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पश्चिमी उत्तर प्रदेश में लगने वाले एक बड़े मेले के आयोजन को अनुमति प्रदान कर दी है। उन्होंने हापुड़ में लगने वाले गढ़मुक्तेश्वर मेले के आयोजन को अनुमति दी है। इसके साथ ही निर्देश भी दिया है कि वहां पर सभी स्थान पर कोविड प्रोटोकॉल के साथ भव्य रूप से मेले का आयोजन हो।


अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि कार्तिक मास में बीते दो वर्ष से प्रदेश के हापुड़ जनपद के गढ़मुक्तेश्वर के खादर में लगने वाला कार्तिक मेला स्थगित था। इस बार मुख्यमंत्री योगी ने ऐतिहासिक मेले के आयोजन के लिए निर्णय लिया है। मेले के आयोजन को लेकर अब शासनादेश जारी हो गया है। ऐसे में इस बाद दिवगंत परिजनों के दीपदान के लिए लोग खादर में पहुंच सकते हैं।

अपर मुख्य सचिव ने बताया कि कोरोना संक्रमण से बचाव और उपचार की व्यवस्थाओं को निरन्तर सुदृढ़ बनाए रखे जाने व कोविड नियमों के तहत सभी पर्व एवं त्योहारों को शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न कराने के निर्देश दिए हैं।


हापुड़ जिले के गढ़मुक्तेश्वर में कार्तिक पूर्णिमा पर लगने वाले मेले में कई राज्यों से लाखों श्रद्धालु पहुंचते हैं। यहां लोग अपने पुरखों की आत्मा की शांति के लिए दीपदान करते हैं।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टीम-09 के साथ बुधवार को समीक्षा बैठक के बाद प्रदेश के सभी जिलों में कन्टेंमेंट जोन के बाहर रात का कर्फ्यू समाप्त करने का आदेश दिया था। कोविड प्रोटोकाल के अनुपालन की शर्त के अनुसार रात्रिकालीन कोरोना कर्फ्यू रात 11 बजे से सुबह 6 बजे तक लागू करने के आदेश थे।