NBFC के मैनेजमेंट में थमा 8 माह पुराना विवाद

NBFC के मैनेजमेंट में थमा 8 माह पुराना विवाद

Spandana Sphoorty फाइनेंशियल लिमिटेड की संस्थापक और व्यवस्था निदेशक पद्मजा रेड्डी के कंपनी से जुड़े सभी मतभेदों को सुलझा लिया गया है. Spandana Sphoorty ने इसकी जानकारी शेयर बाजार को भी दे दी है. इस समाचार की वजह से कंपनी का स्टॉक रेट 20 प्रतिशत तक चढ़ गया. आपको बता दें कि यह एक नॉन बैंकिंग फाइनेंस कंपनी यानी एनबीएफसी है. 

क्या बोला कंपनी ने: स्टॉक एक्सचेंजों को दी जानकारी में Spandana Sphoorty ने बोला कि पद्मजा रेड्डी ने एमडी के रूप में पद छोड़ दिया है लेकिन वह एक पर्याप्त शेयरधारक और बोर्ड सदस्य बनी रहेंगी. 

क्या बोला Spandana ने: कंपनी ने कहा, ” पद्मजा रेड्डी और कंपनी के निदेशक मंडल (बोर्ड) के बीच कुछ टकराव उत्पन्न हुए. अब हमें आपको यह बताते हुए खुशी हो रही है कि कंपनी और सुश्री रेड्डी ने अपने मतभेदों को सुलझा लिया है और सौहार्दपूर्ण शर्तों पर अलग होने पर सहमत हुए हैं.

Spandana Sphoorty और उसके बोर्ड ने दोहराया है कि वे कंपनी के कारोबार को और अधिक ऊंचाइयों तक ले जाने के लिए उसे बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध हैं. आपको बता दें कि पिछले वर्ष नवंबर में, रेड्डी ने एक्सिस बैंक को कंपनी के प्रस्ताव की बिक्री पर बहुसंख्यक शेयरधारक केदारा कैपिटल के साथ असहमति के बाद Spandana छोड़ दिया था.

कंपनी के कर्मचारियों और उसके बोर्ड को भेजे एक ईमेल में रेड्डी ने दावा किया कि उन्हें केदारा द्वारा एक्सिस बैंक को निराशाजनक मूल्यांकन पर कंपनी को बेचने के कोशिश पर विरोध जताने के लिए इस्तीफा देने के लिए विवश किया गया था.

निजी इक्विटी फंड केदारा कैपिटल समर्थित कंचनजंगा लिमिटेड, मई 2022 के अंत में 41.3 फीसदी की हिस्सेदारी के साथ माइक्रोफाइनेंस संस्थान में सबसे बड़ा शेयरधारक है. प्रमोटर रेड्डी और उनके पति की कंपनी में 15.22% हिस्सेदारी है


अब गैस-सिलेंडर पर नहीं करना होगा एक भी पैसा खर्चा पढ़ें डिटेल

अब गैस-सिलेंडर पर नहीं करना होगा एक भी पैसा खर्चा पढ़ें डिटेल

नई दिल्ली: IOC Surya Nutan: राष्ट्र में महंगाई दिनों दिन बढ़ती जा रही है. चाहे वह पेट्रोल हो, डीजल हो या एलपीजी गैस हो, सभी के मूल्य बढे हुए हैं. ऐसे में आम आदमी का जीवन जीना कठिनाई होता जा रहा है. यानी आज के समय हर आदमी दो समय की रोटी जुटाने में लगा है. अब ऐसे में हर कोई सोचता है कि उसे कम से कम एलपीजी सिलेंडर तो सस्ता मिल सके. वहीं राष्ट्र की राजधानी दिल्ली में घरेलू गैस सिलेंडर की मूल्य 1000 रुपये तक पहुंच गई है. कमर्शियल गैस सिलेंडर की बात करें तो इसके मूल्य कुछ शहरों में 2,000 के पार चली गई है.

इसी परेशानी को देखते हुए राष्ट्र की सबसे बड़ी ऑयल कंपनी भारतीय ऑयल कॉरपोरेशन एक निवारण लाई है. इस कंपनी ने हिंदुस्तान में रिचार्ज होने वाला और घर के अंदर प्रयोग होने वाला सोलर चूल्हा पेश किया है.  इसकी सहायता से आप तीन समय का खाना फ्री में ही बना सकते हैं. आइए जानते हैं इस सोलर चूल्हे के बारे में विस्तार से…

आपको बता दें कि राष्ट्र की सबसे प्रसिद्ध ऑयल कंपनी भारतीय ऑयल कॉरपोरेशन (IOC) ने 22 जून 2022 यानी की बुधवार को इस नए सोलर चूल्हे को लॉन्च किया था. इस चूल्हे की विशेषता है कि इस चूल्हे को रसोई घर में रख कर सौर्य ऊर्जा के जरिए उपयोग में लाया जा सकता है. ये चूल्हा घर के बाहर लगे सोलर पैनल से अपनी एनर्जी कंज्यूम कर सकता है जिसके बाद यह चार्ज हो कर पूरी ढंग से इस्तेमाल के लिए तैयार हो जाएगा.इस चूल्हे की खास बात तो यह है कि आप इसे रात में भी उपयोग कर सकते हैं. इसके अतिरिक्त इस चूल्हे को खरीदने और इसकी मेंटेनेंस में आपके कोई भी एक्स्ट्रा पैसे खर्च नहीं होने वाले हैं. आपको बता दें कि बुधवार को पेट्रोलियम मिनिस्टर हरदीप सिंह के ऑफिशियल रेजिडेंस पर हो रहे एक कार्यक्रम के दौरान इस सौर चूल्हे को लॉन्च किया गया था.

क्या होगी कीमत:

उन्होंने बोला कि इस समय एक गैस चूल्हे की मूल्य 18,000 रुपये से 30,000 रुपये के करीब आती है. लेकिन पैमाने की अर्थव्यवस्था को देखते हुए 2-3 लाख यूनिट का उत्पादन किया जाता है और कुछ सरकारी सहायता मिलती है, तो कॉस्ट 10,000 रुपये से 12,000 रुपये प्रति यूनिट तक तम हो सकती है.

बिना रखरखाव के चूल्हे की लाइफ 10 वर्ष है. इसमें एक ट्रेडिशनल बैटरी नहीं है, जिसे बदलने की जरूरत है. साथ ही सोलर पैनल की लाइफ 20 वर्ष होती है